गज़ल

कोई नगमा गुनगुनाकर ज़रा सा इश्क रख देना
अश्क दो-चार बहाकर ज़रा सा इश्क रख देना
============================

रूह मेरी सुकूं पा जाएगी इतने में ही दिलबर
तुम मेरी कब्र पर आकर ज़रा सा इश्क रख देना
============================

फैलाऊँ हाथ मैं जब भी दुआओं में तेरे आगे
मेरे हाथ में लाकर ज़रा सा इश्क रख देना
============================

जहां रखी हैं मैंने तेरी सब यादें करीने से
वहीं तुम भी मुस्कुराकर ज़रा सा इश्क रख देना
============================

ज़िंदगी के तनहा रास्तों पर तुम मेरी खातिर
दुनिया से छुप-छुपाकर ज़रा सा इश्क रख देना
============================

आभार सहित :- भरत मल्होत्रा।