गले मिलकर ग़िले शिकवे मिटाने की तमन्ना है

गले मिलकर ग़िले शिकवे मिटाने की तमन्ना है
ग़मो के दौर में फ़िर मुस्कुराने की तमन्ना है

तमन्ना है रखूँ बस याद लोंगो की भलाई को
बुराई को सभी की भूल जाने की तमन्ना है

गये जो रूठकर मुझसे मेरे अपने उन्हें फिर से
किसी भी हाल में अपना बनाने की तमन्ना है

धधकती नफ़रतों की आग के इस दौर में मेरी
झुलसती आदमीयत को बचाने की तमन्ना है

बड़ा मजहब कभी इंसानियत से हो नही सकता
जहां को बात इतनी सी बताने की तमन्ना है

अगर अजदाद की थोड़ी चरण रज मिल सके मुझको
समझ चंदन उसे माथे सजाने की तमन्ना है

नही थी धर्म मजहब जाति की दीवार ही जिसमें
उसी बचपन में फिर से लौट जाने की तमन्ना है

सतीश बंसल
३१.०७.२०१८

परिचय - सतीश बंसल

पिता का नाम : श्री श्री निवास बंसल जन्म स्थान : ग्राम- घिटौरा, जिला - बागपत (उत्तर प्रदेश) वर्तमान निवास : पंडितवाडी, देहरादून फोन : 09368463261 जन्म तिथि : 02-09-1968 शैक्षिक योग्यता : High school 1984 Allahabad Board(UP) : Intermediate 1987 Allahabad Board(UP) : B.A 1990 CCS University Meerut (UP) वर्तमान ने एक कम्पनी मे मैनेजर। लेखन : हिन्दी कविता एवं गीत विषय : सभी सामाजिक, राजनैतिक, सामयिक, बेटी बचाव, गौ हत्या, प्रकृति, पारिवारिक रिश्ते , आध्यात्मिक, देश भक्ति, वीर रस एवं प्रेम गीत