टप्पे भक्त-भगवान

                                                                     गणेशोत्सव पर विशेष

             भक्त                                                   भगवान
1.हम तेरे दीवाने हैं(2)                           1.जो मेरे दीवाने हैं(2)
तू है शमा दाता,                                        वे हैं शमा भक्तो, 
हम तेरे परवाने हैं-                                    हम उनके परवाने हैं-

2.हम तुझसे मिलने को(2)                             2.जिन्हें मेरी तमन्ना है(2)
जैसे भी तू चाहे,                                                कीर्तन करें न करें, 
कीर्तन में आते हैं-                                            वो मेरे प्यारे हैं-

3.क्या भेंट चढ़ाएं तुझे(2)                      3.क्या करना चढ़ावे का(2)
जो भी पास प्रभु,                                        भक्तों के प्यार से ही, 
तुझसे ही पाते हैं-                                        हम खिंचे चले आते हैं-

4.नर-तन भी तूने दिया(2)                         4.जब इतना समर्पण है(2)
डोर संभालो प्रभु,                                            फिर क्या चिंता तुझे, 
हम तेरे हवाले हैं-                                             रथ मेरे हवाले है-

5.कभी अंगना में आया करो(2)                  5.आना-जाना भी ज़रूरी नहीं(2)
फुरSसSत ना हो जो तुम्हें,                               हाथ से काम करो, 
हमको ही बुलाया करो-                                   मेरी याद न भुलाया करो-

6.तुम जीते हम हारे(2)                           6.कहीं भक्त नहीं हारें(2)
जैसे भी हैं तेरे हैं,                                        (मेरे)दिल की सूची में, 
इक बार तो कह देना-                                अपना नाम परख लेना-

 

आप सबको गणेशोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं.

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।