फटाक-फटाक- 5

तेजी से बदलते इस युग में खबरें भी तेजी से बदलती रहती हैं. तेजी से बदलती इन खबरों को सहेजने के लिए प्रस्तुत है एक नवीन प्रयास फटाक-फटाक. फटाक-फटाक के इस अंक में ढेर सारी सकारात्मक खबरें संक्षेप में, लेकिन सबसे पहले बात हमारी 2 जीवनोपयोगी सूत्रात्मक काव्योक्तियों की-

मन को छोटा मत कर, सम्मुख है आकाश,
बस छूने को चाहिए, थोड़ा-सा विश्वास,
हर मंज़िल मिल जाएगी, हर मुश्किल हिल जाएगी,
क्षमता जो है हम में छिपी, उसका कर विश्वास.

चिंता करो तो “ज़िंदगी की परीक्षा” बहुत लंबी है,
बिंदास रहो तो “ज़िंदगी की परीक्षा” पल भर की है.

प्रेरक प्रसंग-
‘भारत के एडिसन’
हम सब बिजली के बल्ब सहित 1000 आविष्कार करने वाले अमेरिका के आविष्कारक एवं व्यवसायी ‘थॉमस ऐल्वा एडीसन’ को तो जानते ही हैं, आज हम आपको ‘भारत के एडिसन’ से मिलवाते हैं, जिनके आविष्कारों ने दुनिया को दंग कर दिया.
‘भारत के एडिसन’ से, आविष्कार से दुनिया रह गई थी दंग
देश के एक महान वैज्ञानिक शंकर अबाजी भिसे का निधन 7 अप्रैल, 1935 को हुआ था. उनके आविष्कारों की वजह से अमेरिका के लोग उनको ‘एडिसन ऑफ इंडिया’ भारत का एडिसन कहते थे.
डॉ.शंकर अबाजी भिसे का जन्म 29 अप्रैल, 1867 को बॉम्बे (अब मुंबई) में हुआ था. बचपन के दिनों से ही विज्ञान के प्रति उनका काफी लगाव था. 14 साल की उम्र में ही उन्होंने अपने घर में ही कोल गैस बनाने वाले एक उपकरण को बनाया. 16 साल की उम्र में उन्होंने आविष्कार के लिए इंग्लैंड या अमेरिका जाने का फैसला किया.
1890-95 के दौरान उन्होंने ऑप्टिकल इलूजन पर काम किया. उन्होंने एक ठोस पदार्थ के दूसरे ठोस पदार्थ में परिवर्तित होने की प्रक्रिया का प्रदर्शन किया. उन्होंने इंग्लैंड के मैनचेस्टर में इस तरह के शो का आयोजन किया. यूरोपीय लोगों ने जो आविष्कार किए थे, उनकी तुलना में भिसे के आविष्कार को श्रेष्ठ माना गया.
मुंबई में रहने के दौरान लंदन से प्रकाशित होने वाली एक पत्रिका में एक आविष्कार के लिए प्रतियोगिता का आयोजन किया गया. प्रतियोगिता वजन और पैकिंग के लिए एक ऑटोमेटिक मशीन बनाने के लिए थी. एक ऐसी मशीन बनानी थी जो खुद आटा, चावल या चीनी के ढेर में से एक निर्धारित मात्रा (जैसे 500 ग्राम या 1 किलोग्राम) को उठाकर उसकी पैकेजिंग कर दे. भिसे ने जो डिजाइन बनाकर भेजा, उसे सबसे अच्छा माना गया. इससे भिसे की मार्केट में आविष्कारक के तौर पर पहचान बन गई. भिसे का सबसे प्रसिद्ध आविष्कार टाइप सी कास्टिंग और कम्पोजिंग मशीन थी. इस आविष्कार के बाद उनके आलोचक भी उनकी प्रतिभा को लोहा मान गए. उन्होंने करीब 200 आविष्कार किए जिनमें से 40 का उनके नाम पेटेंट है.
अल्फ्रेड वेब नाम के वैज्ञानिक ने उनकी तारीफ की और उनको इस वजह से एक गोल्ड मेडल से सम्मानित किया गया.

अब चुनाव से संबंधित खबरें-

लोकसभा चुनाव 2019: आज पहले फेज में 91 लोकसभा सीटों पर मतदान, चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा
लोकतंत्र का सबसे बड़ा महापर्व चुनाव होता है और आज लोकसभा चुनाव के लिए पहले फेज की वोटिंग होनी है. पहले चरण के लोकसभा चुनाव के लिए देश के 18 राज्यों और 2 केंद्र शासित प्रदेशों की 91 सीटों पर मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे. आज ही आंध्र, सिक्किम, अरुणाचल विधानसभा चुनाव के लिए वोट डाले जाएंगे.

लोकसभा चुनाव 2019 : गूगल ने डूडल बना दिया मतदान का संदेश
भारत में आज से लोकतंत्र का महापर्व कहे जानेवाले चुनाव शुरू हो रहे हैं. आज कई राज्यों के विधानसभा चुनावों के साथ ही लोकसभा चुनावों के लिए भी पहले फेज की वोटिंग हो रही है. गूगल ने भी इस खास दिन को डूडल बनाकर समर्पित किया है.

पीएम नरेंद्र मोदी के कार्यकाल में सेंसेक्स ने दिया 9.37% का सालाना रिटर्न

मतदान करने पर दवा पर मिलेगी 10 फीसदी छूट, मिलेगा फ्री खाना
लोकसभा चुनाव में वोटिंग के लिए मतदाताओं को जागरूक करने के लिए कई तरह के कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं. नोएडा में वोट देने के बाद दवाओं की खरीद पर 10 फीसदी की छूट मिलेगी.

ईवीएम-वीवीपीएटी पर्चियों का मिलान, …तो इस बार चार घंटे देरी से आएंगे चुनाव परिणाम!
सुप्रीम कोर्ट द्वारा पांच बूथों पर ईवीएम-वीवीपीएटी पर्चियों के औचक मिलान के लिए चुनाव आयोग को दिए गए निर्देश के बाद इस बार चुनाव परिणाम में कुछ घंटों की देरी हो सकती है.

बीएसपी सुप्रीमो मायावती लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान समाजवादी पार्टी के गढ़ में 9 रैलियां करेंगी. मायावती के इस कदम के पीछे गठबंधन की एक खास रणनीति छिपी हुई है.

तेलंगाना: मूर्तियों से शादी कर बना दी जाती हैं सेक्स वर्कर, सरकारी राशन के लिए करती हैं मतदान
पहले मुझे गांव का एक शख्स इस्तेमाल करता था लेकिन जब वह मुझसे थक गया तो मैं पूरे गांव की जागीर हो गई। मैं वोट इस डर से डालती हूं कि कहीं मुझे सरकारी राशन मिलना न बंद हो जाए. दरअसल, यह कहना है 30 वर्षीय जोगिनी मनीषा आनंद का.

पुणे: वोट मांगने के लिए शादी से लेकर अंतिम संस्कार तक, किसी भी कार्यक्रम में बिना बुलाए पहुंच रहे हैं नेता
लोकसभा चुनाव से पहले वोट मांगने के लिए नेता किसी भी कार्यक्रम में पहुंच रहे हैं, जहां उन्हें काफी भीड़ मिल सके. चाहे शादी हो या अंतिम संस्कार, प्रत्याशी पहुंच जाते हैं और भाषण देने लगते हैं और उन्हें रोकने वाले कोई नहीं होता.

घोड़े पर सवार होकर बैंड-बाजे के साथ पर्चा दाखिल करने पहुंचा ‘दूल्‍हा’ बना प्रत्‍याशी
यूपी के शाहजहांपुर में 29 अप्रैल को लोकसभा चुनाव होने हैं. जिले में पर्चा दाखिल करने का काम जोरशोर से जारी है. इस बीच दूल्‍हा बने एक प्रत्‍याशी का नामाकंन चर्चा का विषय बन गया है.

केरल में घोड़े पर सवार होकर एक लड़की जा रही है स्कूल
केरल के त्रिशूर में एक लड़की घोड़े पर सवार होकर स्कूल जा रही है। जिसका एक विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इस विडियो में देखा जा सकता है कि घोड़ा व्यस्त सड़कों से होकर गुज़र रहा है और लड़की उस पर बैठी हुई है. ऐसे समय में जब परीक्षाएं हो रही हों घोड़े पर सवार होकर जाना परीक्षा में तनाव को कम कर सकता है. सोशल मीडिया पर लड़की उस लड़की की हिम्मत की दाद दे रहे हैं.

जुगलबंदी वाला दिल्ली ट्रैफिक पुलिस में तैनात एएसआई रामवीर सागवान
दिल्ली ट्रैफिक पुलिस में तैनात एएसआई रामवीर सागवान दिल्ली भर में रोड सेफ्टी के लिए कर रहे हैं और वह भी अपनी ड्यूटी के साथ. वह हाथ में माइक लिए लोगों को जागरूक करते नजर आते हैं या फिर कविताएं सुनाकर और गाने गाकर लोगों को रोड सेफ्टी के लिए प्रेरित करते हैं.

कुछ और महत्त्वपूर्ण खबरें-
26 साल के इंजिनियर ने नौकरी छोड़ जिंदा किए मरते 10 तालाब
अमूल एमडी के ड्राइवर के बेटे ने पास किया IIM-अहमदाबाद का टेस्ट
नवरात्र 2019: अष्टमी-नवमी को अद्भुत संयोग, हर काम में मिलेगी सफलता-
इस बार नवमी में रवि पुष्य योग का अद्भुत संयोग बन रहा है. इसके चलते अष्टमी और नवमी की पूजा करना बेहद शुभ फलदायक माना जा रहा है.
यहां है बियर का तालाब, इसमें नहा भी सकेंगे आप

ऑस्ट्रिया के टैरंज में बियर का तालाब है. इस तालाब में आप नहा भी सकेंगे और बियर भी पी सकेंगे. दुनिया का यह पहला बियर पूल ऑस्ट्रिया के टैरंज में है. 700 साल पुराने किले में स्थित इस तालाब की गहराई 13 फीट है। इसमें करीब 42,000 पिंट्स (करीब 20 हजार लीटर) बियर भरी गई है. अगर तालाब में आप अकेले तैरना चाहते हैं तो 2 घंटे के लिए आपको 298 डॉलर करीब 20,620 रुपये देने होंगे.

फटाक-फटाक के इस अंक में आज बस इतना ही. आप भी कामेंट्स में फटाक-फटाक खबरें लिखकर हमारे साथ साझा कर सकते हैं.

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।