कमाल के किस्से-27

ये कमाल क्या है? कमाल क्यों होता है? कमाल कब होता है? कुछ पता नहीं, पर हो जाता है. चलिए आज हम फिर कमाल की ही बात कर लेते हैं.

कमाल की योग-जानकारियां-
सुदर्शन खन्ना ने हमें कमाल की 100 योग-जानकारियां भेजी थीं, जो बहुत ही उपयोगी हैं. आप उन्हें ब्लॉग कमाल के किस्से-7 से 16 तक की कड़ियों में पढ़कर आजमा सकते हैं.

कल राम प्रसाद बिस्मिल जयंती थी. राम प्रसाद ‘बिस्मिल’ (11 जून क़897-19 दिसम्बर 1927) भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन की क्रान्तिकारी धारा के एक प्रमुख सेनानी थे, जिन्हें 30 वर्ष की आयु में ब्रिटिश सरकार ने फाँसी दे दी. वे मैनपुरी षड़यन्त्र व काकोरी-काण्ड जैसी कई घटनाओं में शामिल थे तथा हिन्दुस्तान रिपब्लिकन ऐसोसिएशन के सदस्य भी थे. उन्होंने 11 पुस्तकें भी लिखी हैं.

कल लालू यादव का जन्मदिन भी था. लालू अपने चुटीले भाषणों के लिए जाने जाते हैं.

कमाल का चोर-
बच्चू कब तक और कहां तक बचोगे, आखिर तो धरे गए न!
कैच मी इफ यू कैन: पुलिस को चुनौती देकर भाग जाता था चोर, धरा गया
मुंबई में एक चोर खुद को बहुत शातिर समझता था. वह चोरी की वारदात को अंजाम देने के बाद पुलिस को चुनौती देता था कि उसे पकड़कर दिखाएं. आखिरकार पुलिस ने जाल बिछाया और उसे गिरफ्तार कर लिया.

कमाल का इंटरनेट-
1 मिनट में
इंटरनेट में 1 मिनट में 18 करोड़ से ज्यादा ई-मेल भेजे जाते हैं.
दुनियाभर में एक मिनट में इंटरनेट पर 18 करोड़ 80 लाख ई-मेल भेजे जाते हैं.
दुनियाभर में एक मिनट में कुल 4 करोड़ 16 लाख मोबाइल मेसेज भेजे जाते हैं.
एक मिनट में पूरी दुनिया में 1 करोड़ 81 लाख टेक्स्ट मेसेज भेजे जाते हैं.
एक मिनट में इंटरनेट के जरिए दुनियाभर में कुल 48 लाख GIF सेंड होते हैं.
पूरी दुनिया में एक मिनट में 45 लाख विडियो देखे जाते हैं.
गूगल पर एक मिनट में दुनियाभर में 38 लाख सर्च क्वेरी आती है.
पूरी दुनिया में स्नैपचैट पर एक मिनट 21 लाख स्नैप्स क्रिएट होते हैं.
दुनियाभर में टिंडर पर एक मिनट में 14 लाख स्वाइप होते हैं.
एक मिनट में पूरी दुनिया में फेसबुक पर 10 लाख लॉग-इन होते हैं.
दुनियाभर में एक मिनच में ट्विच पर 10 लाख व्यू होते हैं.
पूरी दुनिया में एक मिनट में इंटरनेट पर कुल 9,56,956 डॉलर खर्च किए जाते हैं.
नेटफ्लिक्स पर दुनियाभर में एक मिनट में 6,94,444 घंटे देखे जाते हैं.
एक मिनट में पूरी दुनिया में 3,90,030 ऐप डाउनलोड होते हैं.

पानी की बर्बादी के चलते कटा विराट कोहली का चालान-
गुड़गांव के डीएलएफ फेस-1 स्थित विराट कोहली के घर के बाहर पाइप से गाड़ी धोने की शिकायत के बाद लगाया गया जुर्माना. घरेलू सहायक के नाम कटा चालान.

अभद्र भाषा का इस्तेमाल करने पर 2 गिरफ्तार
यूपी के बाद अब कर्नाटक में भी ऐसा ही एक मामला सामने आया है जहां सीएम के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने पर दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है. दोनों शख्स पर 23 मई को फेसबुक लाइव के दौरान कुमारस्वामी और उनके परिवार को गाली देने का आरोप है.

कमाल का झूठा मेसेज-
प्लेन हाइजैक का झूठा मेसेज फैलाने वाले बिरजू किशोर सल्ला को NIA कोर्ट ने सुनाई उम्रकैद की सजा
एनआईए की एक विशेष अदालत ने बिरजू किशोर सल्ला नाम के एक व्यक्ति को ऐंटी-हाइजैकिंग ऐक्ट 2016 के तहत उम्रकैद की सजा सुनाई है. उस पर 5 करोड़ रुपये जुर्माना भी लगाया है. बिरजू 30 अक्टूबर 2017 को जेट एयरवेज की एक फ्लाइट के टॉइलट में ‘प्लेन में हाइजैकर्स मौजूद हैं’ लिखने का दोषी है.

कमाल का तड़का-
बहू ने लगाया प्याज का तड़का, सास पहुंची थाने
बिलासपुर कस्बे में गुरुवार शाम पुलिस चौकी में हाई वोल्टेज ड्रामा देखने को मिला. सब्जी में प्याज का तड़का लगाए जाने से प्याज न खाने वाली नाराज सास ने अपनी बहू के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर बिलासपुर चौकी में हंगामा किया. बाद में पुलिसकर्मियों ने उन्हें समझा-बुझाकर घर भेजा.

कमाल की खेती की भारतीय तकनीक-
यूपी के पैटर्न पर अमेरिका में भी होगी खेती, इफ्करी कर रहा स्टडी
ऐसा पहली बार हुआ है कि अमेरिकी संस्था के सदस्य प्रदेश में चल रहे ‘द मिलियन फॉर्मर्स स्कूल’ में एग्रीकल्चर मॉड्यूल के माध्यम से किसानों, फसल और उसकी पैदावार में प्रयोग की गई तकनीक को समझ रहे हैं.

कमाल के फरिश्ते-
उधार मांगने पर मारी गोली, पिता बोले- चार लड़के बने फरिश्ते
सोनाली गुड़गांव में एक मल्टी नैशनल कंपनी में जॉब करती थीं. उन्होंने अपनी दोस्त को कुछ रुपये उधार दिए थे और अब वापस मांग रही थीं. दोस्त के भाई ने रुपये देने के बहाने सोनाली को बुलाया और गोली मार दी. वहां से गुजर रहे कुछ लड़कों ने उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया.

कमाल का कुर्सी का चक्कर-
मालेगांव ब्लास्ट केस: जज की पेशकश के बावजूद कोर्ट में कुर्सी पर बैठने से साध्वी प्रज्ञा ने किया इनकार
मालेगांव ब्लास्ट केस की सुनवाई के दौरान शुक्रवार को साध्वी प्रज्ञा करीब ढाई घंटे कोर्ट परिसर में खड़ी रहीं. सुनवाई के दौरान उन्हें पेश की गई कुर्सी और अदालत की सफाई व्यवस्था को खराब बताते हुये ठाकुर ने वहां बैठने से मना कर दिया.

कमाल के शिखर धवन पर कमाल की कविता “शिखर की ललक”-
ब्लॉग- सलामी बल्लेबाज़ को काव्यमय सलाम
वर्ल्ड कप में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चोटिल हुए टीम इंडिया के ओपनिंग बल्लेबाज शिखर धवन वर्ल्ड कप से बाहर नहीं हुए हैं. मंगलवार देर शाम शिखर धवन की चोट पर फाइनल रिपोर्ट बाहर आ गई. इसमें उनके अंगूठे में हेयरलाइन फ्रैक्चर सामने आया है.
“शिखर की ललक” शीर्षक से यह कविता मैंने 22.2.1996 को लिखी थी. उस समय मुझे क्या किसी को भी पता नहीं था कि, दिल्ली के तेजस्वी शिखर धवन ऑस्ट्रेलिया और भारत के अपने पहले ही क्रिकेट टैस्ट मैच में ओपनर की तरह आएंगे और इस कदर छा जाएंगे कि पहले ही क्रिकेट टैस्ट मैच में न सिर्फ़ शतक बनाने में बल्कि सबसे तेज़ शतक बनाने का रिकॉर्ड बना पाएंगे और पूरे-पूरे अखबार उनके ही समाचारों से भर जाएंगे. तब भी यह कविता पत्र-पत्रिकाओं तथा कवि सम्मेलनों में छा गई थी और आज भी शिखर की कामयाबी पर फिट बैठ रही है.

कमाल का रेत का महल-
जर्मनी के कुछ कलाकारों ने कमाल कर दिया, ऐसा कमाल जिसके लिए उनका नाम गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज किया गया। कई कलाकारों ने मिलकर रेत का महल बना दिया, वही रेत जो फिसलती रहती है, टिकती नहीं.

कमाल के स्वास्थ्य टिप्स-
Cancer से बचना है तो अपने किचन से ये 7 चीजें तुरंत करें बाहर
1.प्लास्टिक बॉटल या कंटेनर
2.रिफाइंड ऑइल
3.नॉन स्टिक कुकवेअर
4.ऐल्युमीनियम फॉयल
5.टूटी हुई क्रॉकरी
6.प्लास्टिक चॉपिंग बोर्ड
7.ऐल्युमीनियम के बर्तन
अब आप समझ गए होंगे, कि पहले इन चीजों का इस्तेमाल कम या नहीं के बराबर होता था, तो कैंसर भी कम होता था.

चलते-चलते
एक कमाल का चुटकुला
पप्पू और विधायक चाचा

गप्पू: अरे इतना परेशान क्यों है?
पप्पू: मेरी गर्लफ्रेंड की शादी किसी और से हो गई.
गप्पू: तूने बताया नहीं कि चाचा विधायक हैं तुम्हारे?
पप्पू: बताया था भाई, अब वह चाची है मेरी.

 

इसी के साथ ‘किस्से कमाल के’ की इस कड़ी को हम यहीं पर विराम दे रहे हैं. आप भी कामेंट्स में कमाल के अन्य किस्से भेज सकते हैं. कामेंट्स में आए आपके कमाल के किस्से अगली कड़ी में आप अपने नाम से देख पाएंगे.

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।