गीतिका/ग़ज़ल

ग़ज़ल

हर क़दम पर  इश्क़ की  देती मुझे  दावत  भी थी।
प्यार करने  का उसे पर  इक सबब सूरत   भी थी।
अब ज़रा फुर्सत नहीं तो  किस तरह से हो निबाह,
तब नहीं आया  मुझे  जब  ढेर सी  फुर्सत भी थी।
मंज़िलों  की  थी  तलब  यूँ  साथ  हम  चलते रहे,
हमको उससे हरक़दमपर यूँ बहुत ज़हमत भी थी।
इश्क़  ने  मुझको  दिया  था  ज़ख़्म गहरा  इक मगर,
दर्द सहने  की मुझे  बचपन से कुछ आदत  भी थी।
कलतलक उससे बहुत दिलको शिकायत थी हमीद,
ये मगर सच  है कि शामिल थोड़ी सी उल्फत भी थी।
— हमीद कानपुरी

परिचय - हमीद कानपुरी

पूरा नाम - अब्दुल हमीद इदरीसी वरिष्ठ प्रबन्धक, सेवानिवृत पंजाब नेशनल बैंक 179, मीरपुर. कैण्ट,कानपुर - 208004 ईमेल - ahidrisi1005@gmail.com मो. 9795772415

Leave a Reply