पद्य साहित्य

अपुन नजरिया

विभीषण तो धर्मात्मा थे,
किन्तु लंकाधीश रावण की नज़र में ‘गद्दार’ थे;
गद्दार के लिए अपनी-अपनी नजरिया,
जो कि व्यक्तिनिष्ठ होते हैं !

××××

कभी खरगोश को सहला कर देखिए;
मानो उनकी ‘नाभि’ के इर्द-गिर्द सहला रहे हैं !
अतुलनीय मजा !

××××

रिश्ते अगर झुकने से बच जाए,
तो झुक जाइये;
किन्तु बार-बार झुकना पड़ जाए,
तो रुक जाइये !

××××

‘बालाकोट सर्जिकल स्ट्राइक’ के 1 साल
How is the खौफ़ ?
ऐसे जरूरी है….
‘वार’ के बदले ‘पलटवार’ !

××××

बढ़ती जा रही नजदीकियाँ,
तेरे बिन रहती उदासियाँ !

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply