बाल कहानी

गुलाब के पांच बाल गीत-

रोज डे 22 सितंबर पर विशेष
1. कांटों में हंसना सीखो
हम गुलाब हैं, खुश दिखते हैं,
पर कांटों में रहते हैं।
कांटों में हंसना सीखो,
हंस-हंस सबको कहते हैं॥
राजा की पदवी पाकर भी,
हम विनम्र रहना चाहें।
जिससे जग के राजा के दर,
शान-मान से जा पाएं॥

2. ‘रोज डे’

मैं गुलाब हूं, खुश दिखता हूं,
पर कांटों में रहता हूं।
इन कांटों की चुभन कंटीली,
सहकर भी नित हंसता हूं॥
सिखलाता ‘रोज डे’ सपनीला,
महको और महकाओ।
कांटों-कष्टों से क्या डरना,
सपनों को सहलाओ॥

3. अजब हमारा जीवन है

पवन-हिंडोला, शर की शैय्या,
अजब हमारा जीवन है।
खुशबू-सुंदरता के पुजारी,
कोमल अपना तन-मन है॥
सब पूछें हम कितने सुखी हैं,
हम सुख ढूंढते रहते हैं।
कांटों वाली डाली पर भी,
हरदम हंसते रहते हैं॥

4. कांटों बिन जीना क्या जीना!

हम सुमनों की अजब कहानी,
क्षणभंगुर है अपनी जवानी।
भंवरे खुशबू ले जाते हैं,
पत्ते झड़ें जब गिरता पानी॥
कांटों में रहकर लगता है,
अपने घर में रहते हैं।
कांटों बिन जीना क्या जीना!
अपने आपसे कहते हैं॥

5. गुलाब

मैं गुलाब हूं, प्यारा हूं,
सबकी आंख का तारा हूं।
लाल-गुलाबी-नीले-पीले,
ढेरों रंगों वाला हूं॥
कहलाता फूलों का राजा,
फिर भी नहीं इतराता हूं।
कांटों में रहकर भी खिलखिल,
हंसता और हंसाता हूं॥

Leave a Reply