गीत/नवगीत

ले चलो अब मुझको मेरे गांव

मुझे खूब याद आता है, मेरा प्यारा प्यारा गांव। बारिश के दिनों में जहां, चलती कागज की नाव।। बहुत याद आता है मुझकों, कभी अपनों का वो साथ। कभी बड़े पीपल की वो छांव, ले चलो अब मुझको मेरे गांव।। सड़क किनारे है मेरा गांव, वहीं है मां काली का धाम। करते लोग खूब दर्शन […]

कहानी

कामयाबी

                    ठाकुर वंशीलाल हीरापुर गांव के बड़े प्रतिष्ठित व्यक्ति थे, साथ में क्षेत्र के कई गावों में ठाकुर साहब की सामाजिक और राजनीतिक हैसियत भी थी। ठाकुर साहब का खुशहाल परिवार था परिवार के नाम पर बेटा रमेश, बेटी रागिनी और पत्नी सुनीता थी। क्षेत्र के […]

पर्यावरण

जल संरक्षण, जन जरुरत

हम जिस देश में रहते है उस देश के प्रमुख शहरों और वहां के सभ्यता को विकसित करने में नदियों का महत्वपूर्ण भूमिका है और नदियों का अस्तित्व उसमे भरे जल से है और जल की महत्व को समझते हुए हमारे पूर्वजों ने जल को आराध्य देव मानते हुए जल देवता कह के पूजा करना […]

कविता

आभार अर्धांगिनी

हम बस प्रिय -प्रिये नहीं, हम कदम-कदम के साथी हैं। हम बस दो जिस्म नहीं, हम जन्मों-जन्म के साथी है।। तुम ही हो मेरी सब ख़ुशियाँ, तुम्हारी बाहों में है मेरी दुनियां। सिर रख गोद में तेरे मैं सोऊ, संग तेरे दिखे खुशियों की बगियां।। तेरे उलझे केशों को सुलझाऊ, तेरे नयनों में खुद समा जाऊं। […]

राजनीति

कृषि विधेयक 2020- उचित या अनुचित

जिस देश का अन्नदाता किसान कुदाल और बैल लेकर खेतों में जाने के बजाय सड़को पर उतर जाए उस देश के लिए इससे ज्यादा शर्म की बात क्या होगा, देश के जीडीपी में 16-18% तक का योगदान देने वाले किसानों की संख्या 2014-2015 रिपोर्ट के अनुसार देश की जनसंख्या का 67.8% है , इस आधार […]

स्वास्थ्य

बाल मन पर पड़ता प्रभाव

गाँधी जी की जयंती दो अक्टूबर करीब आने को है, किताब उठाया बापू की जीवनी पढ़ने लगा, पढ़ने पर पाया की मोहनदास नामक बालक बचपन में सत्यवादी राजा हरिचन्द्र नामक चलचित्र देखने पर पुरे जीवन सत्य बोलने का प्रण कर लेता हैं और सत्य के मार्ग पर आजीवन चल पड़ता है फिर विचार आता है […]

राजनीति

बढ़ती जनसंख्या, घटते संसाधन 

      जनसंख्या वृद्धि कही न कही हमें आने वाले समय में भयंकर दुष्परिणाम की तरफ ले जा रही है, इसपर हम आज न सचेत हुए तो आने वाले समय में संसाधनों के लिए महायुद्ध जैसी स्थिति का सामना करना पड़ सकता हैं । क्योंकि दैनिक उपयोग के संसाधन जैसे की पेट्रोल, डीजल, पेयजल, निवास और खेती हेतु भू-भाग इत्यादि सीमित मात्राहै।      जनसंख्या नियंत्रण […]