Author :

  • भागती है ज़िन्दगी

    भागती है ज़िन्दगी

    रात भर पहियों पे सरपट भागती है ज़िन्दगी। अगली सुबह दिन चढे फिर जागती है ज़िन्दगी।। दर्द की एक रात लम्बी लगती ज़िन्दगी से भी, हँसती रहे गर तो बस एक रात सी है ज़िन्दगी। जिस्म...