Author :



  • कीजिये यकीन मेरा

    कीजिये यकीन मेरा

    कीजिये यकीन मेरा, कि ये गुस्ताखी नहीं। और रखिए आप, इतनी रंजिशें काफी नहीं।। आपको है क्या ज़रूरत, यूँ उठाने की कसम। आदतें तो शख्सियत से इस तरह जाती नहीं।। कर दिया होगा, रिहा करने का...

  • मुनासिब है नहीं

    मुनासिब है नहीं

      बेवजह मिलना मुनासिब है नही। संग संग चलना मुनासिब है नहीं।। दोस्ती का दौर वो कुछ और था, अब गले मिलना मुनासिब है नहीं। मोम बन कर आ ज़रा खुद भी जलें, औरों से जलना...


  • वक्त लगता है…

    वक्त लगता है…

    फैसला कर ज़रा करने में वक्त लगता है। कश्ती पानी में उतरने में वक्त लगता है।। ज़ख्म इतने लिए महफ़िल में कैसे जाउंगी, आईना दे दो सँवरने में वक्त लगता है। हिजाब होता तो पल में...

  • जंगल की आग

    जंगल की आग

    एक दिन आग लगी जंगल में, भगदड़ मच गई यारों। कोई यहाँ कोई वहाँ था भागा, आफत आ गई प्यारों। एक चिड़िया भर लाई, चोंच में बड़ा ज़रा सा पानी। हाथी भालू हंसने लगे, हुई शेर...

  • भागती है ज़िन्दगी

    भागती है ज़िन्दगी

    रात भर पहियों पे सरपट भागती है ज़िन्दगी। अगली सुबह दिन चढे फिर जागती है ज़िन्दगी।। दर्द की एक रात लम्बी लगती ज़िन्दगी से भी, हँसती रहे गर तो बस एक रात सी है ज़िन्दगी। जिस्म...