Author :


  • अंगार

    अंगार

    हमने चरखा बदल दिया है बारूदी अंगारों से बहत छले गए है अबतक गांधीवादी नारों से लोकतंत्र के मज़बूरी में देश नहीं बिकने देंगे उमर कन्हैया जिग्नेशो को यहाँ नहीं टिकने देंगे जो जो इनके साथी है गिन गिन इन पर...




  • ऐसी भाषा तो —-

    ऐसी भाषा तो —-

    मुगलों के टुकडो पर पलने वाले और उनके दरबार में अच्छा अच्छा ओहदा और रूतबा पाए मानसिंह , जयचंद ! अंग्रेजो की चापलूसी और देश के साथ गद्दारी करके मस्नाब दार बने हिन्दुस्तानी भी ऐसी भाषा...


  • बेटियों के बहाने

    बेटियों के बहाने

    बड़ा सम्बेदंशील शब्द है और कुटिल बुद्धिकारो के लिए अल्पसंख्यक, दलित की तरह इस्तेमाल करने में बहुत मुफीद! अल्पसंख्यक, दलित की तरह अब इनको भी इस्तेमाल करनेवालों की होड़ लगी है. क्योकि इनका भारत में सामाजिक...

  • दद्दा ज़ी

    दद्दा ज़ी

    हमारे गांव के बगल में एक दद्दा जी है जो स्वभाव से अक्खड़ और घोर राष्ट्रवादी. ८७ साल उम्र होने के बावजूद चेहरे पर वही चमक और सिंह के दहाड़ जैसी आवाज. दिन भर गाय भैंस...