Author :

  • उन्मुक्त पंछी

    उन्मुक्त पंछी

    उन्मुक्त गगन का पंछी हूँ दूर कही जा उड़ जाऊंगा। लेकर तेरी यादों को संग अंबर की छोर में जा अकेला कही छुप जाऊंगा। ढूंढेंगी तेरी अखियां तलाश करेगी तेरे दिल की हर धड़कनें। पर मैं...

  • तुम मुझ में जिओ

    तुम मुझ में जिओ

    मैं जीता हूं तुम में तुम जियो मुझ मैं यही मेरी अभिव्यक्ति है। यही मेरे जीवन का सार है, मैं रहूं इस मिट्टी में या उस अंबर की छोर में मगर तुम जियो मुझ में यूं...

  • मेरी मां

    मेरी मां

    हजार गलतियां करने पर भी जो मुझे माफ करती है, वो मेरी मां है जो मुझे बस प्यार करती है। मैं ढूंढता रहा इश्क मैं तलाशता रहा मोहब्बत, मगर वो मेरी मां है। जो बिना बोले...

  • गांधी जयंती विशेष

    गांधी जयंती विशेष

    महात्मा गांधी सत्य और अहिंसा के पुजारी माने जाते है जिन्होंने सत्य और अहिंसा का पाठ पढ़ा कर हमें गुलामी जैसी बेड़ियों को तोड़कर बाहर निकलना सिखाया है। गांधी जी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 ई...

  • बाल कविता

    बाल कविता

    आओ हम स्कूल चले नव भारत का निर्माण करें। छूट गया है जो बंधन भव का आओ मिलकर उसको पार करें, आओ हम स्कूल चले ….. जाकर स्कूल हम गुरुओं का मान करें बड़े बूढ़ों का...

  • कविता

    कविता

    बरसती बरसातों में बह जाऊंगा मैं भी, तेरी याद आती यादों के संग। टूटकर बिखर जाऊंगा, किसी गुमनाम पत्थर की तरह, और बह जाऊँगा किसी चीखती नदी में ले तेरी यादों को संग। लोग ढूंढेंगे मुझे...

  • हिंदी

    हिंदी

    हिंदी हिंद की शान है, बिंदी जिसकी पहचान है। हिंदी जननी है मातृभाषा अभिमान है, जिस पर हमे आता। फूल पत्तों जैसी ये खिलती। हर भाषा में जा, ये गुल मिलती। स्वर व्यंजन जिसकी पहचान है।...

  • गुरु

    गुरु

    गुरु देते  हमें ज्ञान, अंतर्मन का मिटाते है अभिमान। दे शिक्षा! जीवन को देते है, एक नई पहचान। कभी जीत कर कभी हार कर देते है जीवन को, नव संचार। कभी हंसकर कर, कभी मुस्कुरा कर...

  • तूफान

    तूफान

    बहते हुए तूफान में मैं भी बहता रहा, कभी तूफान बन कर कभी दरिया की नाव बनकर। लोग सोचते रहे, मैं डूब गया। किसी गुमनाम तैराक की तरह। पर स्थिर रहा मैं, किसी अडिंग चट्टान की...

  • क्या तब?

    क्या तब?

    तप्त अग्नि में जलकर राख हो जाऊंगा। एक दिन मिट्टी में मिलकर खाक हो जाऊंगा। तब मिट्टी को रौंदकर क्या मुझे  याद करोगे? झूठे ख्वाबों की शायरी से क्या मेरा इंतजार करोगे? करना है इश्क़ तो...