कविता

श्राद्ध पक्ष

‘नमन’ सभी दिवंगत आत्माओं को
जो वंश में अग्रज हमारे पूर्वज रहे ।
हमें सदा मनोहर ज्ञान की सीख दी
समित्र भाव संग जीने के संस्कार दिए,
मानवता और प्रभु भक्ति का मार्ग दिखाया,
साथ हमारे अब न रहे ।
पर अपने प्यार और आशीर्वाद का साया .
हम पर वरदहस्त सदा बनाया, ,
आज हम जो भी हैं ,
सब उन्हीं के त्याग की देन है,
उन्ही की कृपा से आज खिला है हमारा चमन,
सभी पूर्वजों, पितरों के चरणो में,
हमारा हार्दिक शत शत नमन, शत शत नमन ..

— जय प्रकाश भाटिया
२८/९/२०१५

परिचय - जय प्रकाश भाटिया

जय प्रकाश भाटिया जन्म दिन --१४/२/१९४९, टेक्सटाइल इंजीनियर , प्राइवेट कम्पनी में जनरल मेनेजर मो. 9855022670, 9855047845

Leave a Reply