भाषा-साहित्य

मीत से प्रीति

कथाकार दिवाकर जी की कहानी ‘देहरी भई बिदेस’ पढ़ा, जो 07 नवम्बर ’16 के ‘आउटलुक’ (हिंदी) में छपा है । इस कहानी में माता यशोदा … मेरी माँ का नाम भी यही है, जो मेरे पास रहती है, परंतु कथा-पुत्र के तरह मैं हरगिज़ नहीं, हो भी नहीं सकता ! कहानी का प्रकाशन टटकी है, किन्तु कथा-विन्यास पुराना है । हाँ, दिवाकर जी रचित कहानी ‘गाँठ’ से मैं बेहद प्रभावित हुआ था । गाँठ ने जाति के अंदर जाति की गांठें खोल दी… । पत्रकार और कवि पंकज चौधरी की चार कविताएं ‘पाखी’ (अक्टूबर – 2016) में प्रकाशित हुई हैं । चारों कविताएं वीर-बहादुर । ‘दिल्ली’ कविता सिरफ लांछन की धाँसू प्रवृति लिए है । हाँ, इन कविताओं में ‘जाति गिरोह में तब्दील हुआ हिंदी साहित्य’ नामक कविता मुझे कशमकश रूप से अभी भी बाँध रखा है । … औरों को भी यह पढ़नी चाहिये । कविता ‘अंधेर नगरी’ एकपक्षीय बोलभर है । आज सवर्ण ही नहीं , वरन् पिछड़ा वर्ग भी SC/ST Act. से इतने कुप्रभावित हैं कि जेल-यात्रा सहित बदले की भावना भी इसके सापेक्ष जुड़ गया है । पंकज की पूर्व प्रकाशित लंबी कविता ‘उस देश की कथा’ से मैं प्रभावित रहा हूँ । इस नाम से इस वीर-बहादुर की प्रथम काव्य-प्रसून भी है । आज ये काव्य-पुरुष मेट्रोपोलिटन शहरों में संघर्षशील पत्रकार के रूप में रेणु और नागार्जुन के संयुक्तावतार में दिख जा सकते हैं ! कवि और राज्यकर्मी श्री शहंशाह आलम की पाँच कविताएं ‘हंस’ (अक्टूबर – 2016) में शहंशाही अंदाज़ में छपा है । इन पाँच कविताओं में कविता-त्रय ‘बढ़ई’, उनकी बेटी और छेनी पर लिखी गयी है , दो अन्य कविता में ज़िन्दगी के दो रूप का विवरण है । पहली कविता हँसती ज़िन्दगी के बारे में, तो तीसरी कविता यूँ टरकाती व दरकती ज़िंदगानी के बारे में है ! शहंशाह आलम की कविता ‘बढ़ई’ में बढ़ईगिरी कम और शहंशाहगिरी ज्यादा है । बढ़ई की बेटी से मिलते हुए वे लकड़हारे की पत्नी तक मिल लेते हैं । खैर, आलम जी की बहुत पहले की कविता ‘मेरे पिता का थैला (झोला)’ बेहद मार्मिक कविता रही है । संग्रहणीय संग्रह ‘……… ऊंटनियों का कोरस’ भी हर को पढ़ना चाहिए । मेरे पास इस कविता-संकलन की सुन्दर प्रति है।

परिचय - डॉ. सदानंद पॉल

तीन विषयों में एम.ए., नेट उत्तीर्ण, जे.आर.एफ. (MoC), मानद डॉक्टरेट. 'वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' लिए गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स होल्डर, लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, RHR-UK, तेलुगु बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, बिहार बुक ऑफ रिकॉर्ड्स होल्डर सहित सर्वाधिक 300+ रिकॉर्ड्स हेतु नाम दर्ज. राष्ट्रपति के प्रसंगश: 'नेशनल अवार्ड' प्राप्तकर्त्ता. पुस्तक- गणित डायरी, पूर्वांचल की लोकगाथा गोपीचंद, लव इन डार्विन सहित 10,000+ रचनाएँ और पत्र प्रकाशित. भारत के सबसे युवा संपादक. 500+ सरकारी स्तर की परीक्षाओं में क्वालीफाई. पद्म अवार्ड के लिए सर्वाधिक बार नामांकित. कई जनजागरूकता मुहिम में भागीदारी.

Leave a Reply