Author :

  • गीत

    गीत

    मेरी अर्धांगिनी के जन्मदिवस पर :- विकल हुआ जब हृदय मेरा तुम्हें पुकारा अंतर्मन से जल तेरे नयनों से माँगा नभ के श्यामल बादलों ने तेरा सौंदर्य चुराया झील के सब शतदलों ने ध्वनित हो रहा...

  • गीत

    गीत

    रश्मि-रथ की करके सवारी तुम आईं हिय-द्वार सुकुमारी श्वासों के आरोह-अवरोह से आहट होती प्रतिध्वनित तुम्हारी अथाह व्योम-से उर में जैसे दिव्य नूपुर खनक रहे हैं इस मादकता की धारा में सारे सुर-नर भटक रहे हैं...

  • गीत

    गीत

    चाह है तेरे लिए कोई गीत गाऊँ शब्दों से पाषाण में स्पंदन जगाऊँ मौन के भी कंठ में जो स्वर जगा दे अद्भुत, आलौकिक सुर कोई ऐसा सजाऊँ भूमि के उर तप्त को कर दे जो...

  • कविता

    कविता

    बुझे दीपक से ज्योति माँगने कब कौन आता है निशा घनघोर है चहुँ ओर दिखाई कुछ नहीं देता पथिक किस मार्ग पर जाएँ सुझाई कुछ नहीं देता निराशा व्याप्त है उर में काल अश्रु बहाता है...

  • गज़ल

    गज़ल

    किसी हाल में न ज़ुल्म से डर जाना चाहिए जी न सको इज्ज़त से तो मर जाना चाहिए ========================== गर चाहते हो याद करें लोग तुम्हें भी जिसका भी हो सके भला कर जाना चाहिए ==========================...

  • गज़ल

    गज़ल

    अलस्सुबह के हसीं आफताब जैसा है मेरे महबूब का चेहरा गुलाब जैसा है उसमें अक्स अपना देखूँ या पढूँ मैं उसे दिल आईना है और बदन किताब जैसा है डूबती जा रही है मेरी हस्ती कि...

  • गज़ल

    गज़ल

    मेरी तरह जो किसी बेवफा से तुम दिल को लगाओगे तुम भी तड़पोगे यूँ ही और तुम भी बहुत पछताओगे राह – ए – मुहब्बत पे चलना है काम बड़े जांबाजों का ओ डर-डर के जीने...

  • गज़ल

    गज़ल

    तनहा होने का अहसास अब नहीं होता तू ही बता तू मेरे साथ कब नहीं होता मिले जितना भी उससे ज्यादा माँगता है ये क्यों इंसान कभी बे-तलब नहीं होता किसी को भी फिज़ूल समझने की...

  • गीत

    गीत

    जाने-अनजाने ही जुड़ गई तुमसे मेरी हर अभिलाषा तुम्हें समर्पित मेरा जीवन अर्पण तुमको ही हर आशा मन-मंदिर में जो स्थापित है रत्न-जड़ित वो मूर्ति हो मेरे बहुरंगी स्वप्नों की तुम ही इच्छित पूर्ति हो जब...

  • गज़ल

    गज़ल

    याद गुज़रे ज़माने आ गए क्या फिर यादों के बादल छा गए क्या ===================== अक्स मेरा उभरा जब यकायक आईना देखकर शरमा गए क्या ===================== महफिल छोड़के जाने लगे हो मेरे आने से तुम घबरा गए...