गीतिका/ग़ज़ल

गज़ल

हालात के साँचे में न सोच कि ढल जाऊँगा कोई मौसम नहीं हूँ मैं जो बदल जाऊँगा ============================== न इतना फिक्रमंद हो तू मेरे बारे में वक़्त के साथ साथ खुद ही संभल जाऊँगा ============================== इरादे और पुख्ता होते हैं दुश्वारियों से गम की लौ से किस तरह पिघल जाऊँगा ============================== जहाँ तक सोच की […]

गीतिका/ग़ज़ल

गज़ल

बेवजह मुस्कुराने की वो आदतें भी गईं साथ तेरे मेरी सब शरारातें भी गईं ============================ शहर छूटा, छूटे दोस्त-ओ-दुश्मन सारे मेरे नाम से बावस्ता तोहमतें भी गईं ============================ बंद होते ही आँखें फेर लिया मुँह सबने मुहब्बतें भी गईं और अदावतें भी गईं ============================ पास मेरे अब न वक़्त है न ही हिम्मत कैसे कह […]

गीतिका/ग़ज़ल

गज़ल

बताऊँ कैसे तुझको मैं कहाँ था घर मेरा ख़त्म ही न हुआ उम्र भर सफर मेरा ============================== तूने देखा था मुझे जब अजनबी की तरह पल में जल गया था ख्वाबों का शहर मेरा ============================== यूँ तो रखता है सारी दुनिया की खबर लेकिन रहा मेरे हाल से ही यार बेखबर मेरा ============================== माला दिन […]

गीतिका/ग़ज़ल

गज़ल

चलते हैं किसी ऐसी दुनिया में जहां कोई न हो एक तुम रहो, एक मैं रहूँ दरमियां कोई न हो ================================ आग में जलकर निखर जाता है सोना और भी क्या मज़ा है इश्क़ का गर इम्तिहां कोई न हो ================================ हर कोई है मगरूर तेरे शहर में जिससे मिलो एक शख़्स ऐसा नहीं जिसको […]

गीतिका/ग़ज़ल

गज़ल

मेरी तरह जो किसी बेवफा से तुम दिल को लगाओगे तुम भी तड़पोगे यूँ ही और तुम भी बहुत पछताओगे ============================== राह – ए – मुहब्बत पे चलना है काम बड़े जांबाजों का ओ डर-डर के जीने वालो तुम क्या साथ निभाओगे ============================== बेहतर है जो बीत गया हो उसको भूल ही जाओ तुम करके […]

गीतिका/ग़ज़ल

गज़ल

किसी शोख के इशारा ए पैहम की तरह आ इस बार तू बहार के मौसम की तरह आ ============================== हो जाऊँ थोड़ा और ताज़ा दम भीग कर चुपके से दिल के फूल पर शबनम की तरह आ ============================== बह जाऊँ किसी तिनके की मानिंद जिसमें मैं तू इश्क़ के इक ऐसे तलातुम की तरह आ […]

गीतिका/ग़ज़ल

गज़ल

बेचैन तुम ही नहीं बेकरार मैं भी था तेरी उदासियों में सोगवार मैं भी था ============================= अश्क तुमने भी बहाए थे वक़्त-ए-रुख्सत बिछड़ के तुझसे रोया ज़ार-ज़ार मैं भी था ============================= ये बात और है तुझे नज़र न आया पर तेरी नज़रों के तीर का शिकार मैं भी था ============================= लगाऊँ किसपे मैं इल्ज़ाम तर्क-ए-ताल्लुक […]

गीतिका/ग़ज़ल

गज़ल

मेहनत करोगे तो तुम्हें क्योंकर ना मिलेगा, कहीं माँगने से तुमको मुकद्दर ना मिलेगा, ============================ टूटे हुए दिल में ना प्यार ढूँढ पाओगे, इस रेत के सहरा में समंदर ना मिलेगा, ============================ तलाश करनी पड़ती हैं खुद मंजिलें अपनी, ये राह-ए-इश्क है तुम्हें रहबर ना मिलेगा, ============================ लफ्ज़ों के तीर करने लगे लोगों को ज़ख्मी, […]

गीतिका/ग़ज़ल

गज़ल

कुछ इस तरह तेरी चाहत ने बेकरार किया, आईना देखा भी तो तेरा ही दीदार किया, ============================ इस दीवानगी ने छीन लिए होश मेरे, मुहब्बत ने हमें रूसवा सरे-बाज़ार किया, ============================ करना था तो नज़र मिलने से पहले करते, अब किया भी तो क्या खाक होशियार किया, ============================ तुम्हें ना आना था ना आए तुम […]

गीतिका/ग़ज़ल

गज़ल

नहीं होता जो किस्मत में उसी से प्यार करता है, ना जाने क्यों खता इंसान ये हर बार करता है, ============================== मर्ज़-ए-इश्क की दुनिया में है कैसी रिवायत ये, दवाएँ भी वही देता है जो बीमार करता है, ============================== बहुत रो-रो के माँगा था मुझे जिसने दुआओं में, नीलामी अब वही मेरी सरे-बाज़ार करता है, […]