Author :

  • गज़ल

    गज़ल

    हमें भी रंग बदलना आ गया है, गिर-गिरकर संभलना आ गया है, ===================== ना धुआं है ना ही आवाज़ कोई, खामोशी से जलना आ गया है, ===================== खिलते फूल की खुशबू के जैसे, हवाओं में बिखरना...

  • गज़ल

    गज़ल

    बात कुछ ना थी बवंडर हो गए, महल आलीशान खंडहर हो गए वक्त के हाथों बचा ना कोई भी, दफन कितने ही सिकंदर हो गए थोड़ी शोहरत थोड़ी इज्ज़त क्या मिली, वो जो कतरा थे समंदर...

  • गज़ल

    गज़ल

    तू भी मेरी तरह ही गलती का पुतला निकला, मैंने समझा था तुझे क्या और तू क्या निकला तमाम शहर के अबरू पे तब शिकन आई, मैं जब कभी भी ढूँढने तेरा पता निकला आज छोड़ा...

  • गज़ल

    गज़ल

    ज्यादा ना शरमाया कर, भर के पेट कमाया कर शौक अगर करने हैं पूरे, थोड़ी रिश्वत खाया कर सच्चा दिखने की खातिर तू झूठे अश्क बहाया कर सैंया जब कोतवाल भये तो, किसी से ना घबराया...

  • गज़ल

    गज़ल

    जो पूरा ना हो सकता हो वो ख्वाब बदल डालो, अंजाम बदलना हो तो तुम आगाज़ बदल डालो, इल्ज़ाम देते जाओगे कब तक तुम तकदीरों को, उठो मेहनत करके अपने हालात बदल डालो, हमारे लिए हैं...

  • गज़ल

    गज़ल

    अपने कौन, बेगाने कौन, किस्से छेड़े पुराने कौन सबको चाहत खुशियों की, गम से करे याराने कौन खुद से ही हम रूठ गए हैं, आए हमें मनाने कौन कीमत है यहाँ चेहरों की, दिल के दर्द...

  • गज़ल

    गज़ल

    मैं ये जाहिर नहीं करता कि मैं सब याद रखता हूँ, पहले भूल जाता था मगर अब याद रखता हूँ भरोसा उठ गया जबसे मेरा इंसानियत पर से, महफिल में हर इक बंदे का मजहब याद...

  • गज़ल

    गज़ल

    जब बेकसूरों को सताया जाएगा, मासूम लोगों को रूलाया जाएगा बदलाव की उठेगी फिर आँधी यहाँ, ज़ालिम हुकूमत को भगाया जाएगा देश को होगी ज़रूरत जब कभी, खून पानी सा बहाया जाएगा किस्सा उन शहीदों की...

  • गज़ल

    गज़ल

    हाल-ए-दिल तुमसे छुपाना था छुपाया ना गया, बहुत कुछ तुमको बताना था बताया ना गया हम जो कह रहे थे वो कभी भी सुन ना सका, और जो उसने कहा हमसे सुनाया ना गया सौ टुकड़े...

  • गज़ल

    गज़ल

    ज़िंदगी तुझसे मुहब्बत भला मैं कैसे करूँ, इतनी मासूम शरारत भला मैं कैसे करूँ यहाँ तो लोग मिलते ही हैं बिछड़ने के लिए, किसी को पाने की चाहत भला मैं कैसे करूँ जब हर शख्स ही...