पर्यावरण

हिमालय देवभूमि को सुरक्षित रखना समय की जरूरत है।

उत्तराखंड के चमोली जिले में एक ग्लेशियर के फटने के बाद आई बाढ़ की वजह से वैज्ञानिक समुदाय अब भी यह समझने के लिए संघर्ष कर रहा है कि येआपदा किस वजह से हुई। इसका उत्तर इतिहास के साथ-साथ वर्तमान विकास संबंधी मुद्दों पर भी है, हम इस बात को मना नहीं कर सकते। पुरातात्विक […]

राजनीति

नए-नए टेस्ट, नियमों और कोर्ट की तारीखों में उलझे हरियाणा के बेरोजगार युवा

नए आंकड़ों ने हरियाणा को देश भर में एक नंबर पर बेरोजगार राज्य घोषित किया है. मगर यहां की गठबंधन सरकार ये मानने को तैयार ही नहीं है. आये दिन बेरोजगारों पर नौकरी के लिए नए-नए नियम थोपे जा रहें है. सरकार नए-नए टेस्ट लागू कर  बेरोजगार युवाओं की जेब खाली कर रही है. वर्तमान […]

सामाजिक

क्या महिलाओं को घरेलू काम के लिए वेतन दिया जाना चाहिए?

इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन द्वारा 2018 में प्रकाशित एक रिपोर्ट से पता चलता है कि, वैश्विक स्तर पर, महिलाएं घरेलू देखभाल के काम के कुल घंटों का 76.2%  करती हैं, जो पुरुषों की तुलना में तीन गुना अधिक है। एशिया और प्रशांत में, यह आंकड़ा 80% तक बढ़ जाता है। उत्तरी अमेरिका और यूरोप में महिलाओं […]

सामाजिक

हमारी आर्थिक तस्वीर को बदल सकते हैं मछली एवं पशु पालन

कृषि के साथ-साथ पशुधन पालन, डेयरी, मत्स्य पालन गतिविधियाँ सभ्यता के प्रारंभ से मानव जीवन का  एक अभिन्न अंग हैं. इन गतिविधियों से खाद्य व्यवस्था में सुधार हुआ और पशुधन को सहेजने में मदद जलवायु और स्थलाकृति के कारण पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन क्षेत्र ने  भारत की उन्नति में एक प्रमुख सामाजिक-आर्थिक भूमिका निभाई […]

सामाजिक

कानून के साथ लिंग संवेदीकरण महिलाओं के लिए अच्छा साबित हो सकता है

लैंगिक असमानता हमारे समाज में एक दीर्घकालिक समस्या है आज भी महिलाओं के साथ कई तरह से भेदभाव किया जाता है. भारत के सामाजिक संदर्भ में कानूनी रूप से महिलाओं को समान अधिकार प्राप्त है मगर लैंगिक मुद्दों पर समाज को संवेदनशील बनाने की बहुत आवश्यकता है ताकि कोई समस्या न हो. महिलाओं को हिंसा, […]

सामाजिक

मैला ढोने वालों की दुर्दशा

किसी मनुष्य द्वारा त्याग किए गए मलमूत्र की साफ-सफाई के लिए व्यक्ति विशेष को नियुक्त करने की व्यवस्था सर्वथा अमानवीय है। और इस कुप्रथा को समाप्त करने के लिए महात्मा गांधी समेत तमाम महापुरुषों ने समय-समय पर प्रयास किए इसके बावजूद यह व्यवस्था न सिर्फ निजी बल्कि सरकारी प्रतिष्ठानों में भी अपनी जड़ें जमाए रही। […]

मुक्तक/दोहा

अपनों से बेजार

हाथ मिलाते गैर से, अपनों से बेजार। सौरभ रिश्ते हो गए, गिरगिट से मक्कार।। ★★★ अपनों से जिनकी नहीं, बनती सौरभ बात ! ढूंढ रहे वो आजकल, गैरों में औकात !! ★★★★ उनका क्या विश्वास अब, उनसे क्या हो बात ! सौरभ अपने खून से, कर बैठे जो घात !! ★★★ चूहा हल्दी गाँठ पर, […]

राजनीति

सशस्त्र बलों में महिलाएं: नए पंख, आकाश को छूने के लिए

हाल ही में भारतीय नौसेना ने हेलीकॉप्टर पर्यवेक्षकों के रूप में दो महिला अधिकारियों सब लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्यागी और सब लेफ्टिनेंट रीति सिंह के चयन की घोषणा की, जिससे वे पहली महिला हवाई युद्धपोत संचालक बन गईं। इस साल मार्च में सर्वोच्च न्यायालय ने यह माना था कि नौसेना में महिला शॉर्ट सर्विस कमीशन अधिकारी […]

मुक्तक/दोहा

बिन बेटी सब सून !

जीवन में आनंद का, बेटी मंतर मूल ! इसे गर्भ में मारकर, कर ना देना भूल !! बेटी कम मत आंकिये, गहरे इसके अर्थ ! कहीं लगे बेटी बिना, तुझे सृष्टि व्यर्थ !! बेटी होती प्रेम की, सागर सदा अथाह ! मूरत होती मात की, इसको मिले पनाह !! छोटी-मोटी बात को, कभी न देती […]

मुक्तक/दोहा

पाये तेरी गोद में, मैंने चारों धाम

तेरे आँचल में छुपा, कैसा ये अहसास। सोता हूँ माँ चैन से, जब होती हो पास।। माँ ममता की खान है, धरती पर भगवान। माँ की महिमा मानिए, सबसे श्रेष्ठ-महान।। माँ कविता के बोल-सी,कहानी की जुबान। दोहो के रस में घुली, लगे छंद की जान।। माँ वीणा की तार है, माँ है फूल बहार। माँ […]