Author :

  • मनमीत

    मनमीत

    थे   हम  तुम  तब   बहुत  अपरिचित ,पर    चिर    परिचित   से   लगते  थे ।इक  दूजे   के  सुख – दुख  सुनने  को,हर   क्षण   उत्सुक   हो   जगते   थे ।। तुमने      ही    चाहा     था     जुड़ना ,जन्मों     का    साथ     बताते      थे...

  • गज़ल

    गज़ल

    आ  सवारें   देश   की   तस्वीर को ।हम  मिटा दें  धीर बन  हर पीर को ।। है   हमारा  ही  सदा   से  अंग  वो।छीन  लेगा  कौन  यूं  कश्मीर  को ।। कत्ल करती है जुबां ही इस कदर ।म्यान...

  • गज़ल

    गज़ल

    आँख  में  ख्वाब   बनकर  पले ।राह   में   दीप   से   हम   जले ।। बन शज़र  आँधियाँ  कर फतह ।बागवां   गर   न   अपना   छले ।। जुस्तजू    है    यही    ऐ    खुदा ।इश्क    मेरा   फलक  तक  पले ।। जिन्दगी   है  ...