Author :


  • मेरी डायरी : मेरा यथार्थ बोध

    मेरी डायरी : मेरा यथार्थ बोध

    दिनांक:06.04.2019 दिल्ली के दो कड़क लौंडे के दिल सुविधा की सुहागरात मनाने के लिए मचल रहे थे लेकिन कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं को यह ‘मधुचन्द्रिका’ मंजूर नहीं थी. इसलिए ‘मोहब्बत की झूठी कहानी’ पर विराम लग...

  • भेड़तंत्र

    भेड़तंत्र

    प्राचीनकाल में चंपतपुर नामक एक राज्य था I जनता की मांग पर वहाँ भेड़तंत्र की स्थापना की गई I भेड़तंत्र अर्थात भेड़ों के लिए भेड़ियानुमा भेड़ों द्वारा संचालित ऐसी शासन- व्यवस्था जिसे भीड़तंत्र, वोटतंत्र और भेड़ियातंत्र...



  • आओ हिंदी दिवस मनाएं

    आओ हिंदी दिवस मनाएं

    आओ हिंदी दिवस मनाएं, अंग्रेजी के चरण पखारें, हिंदी को धकियाएं, गंगा-यमुना की घाटी में , आंग्ल-ध्वजा लहराएं. आओ हिंदी————————————-, आंग्ल वाणी में ज्ञान बसा है, हिंदी पिछड़ों की भाषा है, अंग्रेजों तुम भारत आओ, हम...

  • अरुणाचली जनजातियों की मृत्यु विषयक अवधारणा

    अरुणाचली जनजातियों की मृत्यु विषयक अवधारणा

    अरुणाचल प्रदेश अपने नैसर्गिक सौंदर्य,सदाबहार घाटियों, वनाच्छादित पर्वतों, बहुरंगी संस्कृति, समृद्ध विरासत, बहुजातीय समाज, भाषायी वैविध्य एवं नयनाभिराम वन्य-प्राणियों के कारण देश में विशिष्टय स्थान रखता है । अनेक नदियों एवं झरनों से अभिसिंचित अरुणाचल की...



  • छोटूलाल की जीवन लीला

    छोटूलाल की जीवन लीला

    कभी – कभी ईश्वर से भी भयंकर भूल हो जाती है I ईश्वरीय लापरवाही के कारण भगवान के कारखाने में कुछ डिफेक्टिव माल तैयार हो जाते हैं और ईश्वर के कारखाने में तैनात विपणन अधिकारी जांच...