Author :

  • मौसम

    मौसम

    कितना सुहाना मौसम है हरा – भरा हरियाली है! रिमझिम बारिस की बूंदे झम-झम अवनि पर बरसे! छिपी धरती के सब बीज नव अंकुर हो जाते हैं! खेतों मे भी बनी क्यारियाँ धान – फसल भी...

  • हाईकू

    हाईकू

    हाईकू प्रीत मिलन मधुरमय बेला करे पुकार! नई उमंग मन मे है तरंग हुई मगन ! सुनी डगर निहारते सनम मिले कदम! लोग बेगाने बने इस तरह मिले सबक! अजनबी ये मन करता दुआ शुक्रिया तेरा?...

  • तितली रानी

    तितली रानी

    तितली रानी – तितली रानी रंग बिरंगें पंखों वाली घास – फुस पर विचरण करती सब रंगों मे सुंदर लगती कभी लताएँ , कभी फूलों पर इधर- उधर वो खूब इतराती तुझे देख सब बच्चें खुश...

  • प्रेम

    प्रेम

    ये कैसी प्रेम कहानी है एक प्रेम के बस में तो दुसरा प्पेम से दूर क्या यही सच्चा प्यार है? एक नजरें मिलाने पे विवस तो दुसरा नजरे चुराने मे विवस क्या यही सच्चा प्यार है?...

  • प्रियतम

    प्रियतम

    प्रियतम आप क्यों गये मुझे छोड़कर मुझसे दूर आखिर मैने क्या किया आपने क्या वादा किया था मुझसे मेरा दिल क्यों दुखाया आपने मेरी भावनाओं को क्यों नहीं समझा मैने क्या भुल की जो आप दूर...


  • कागज दिल

    कागज दिल

    कहा हो प्रीतम ! ये आंखें ढूंढ रही है आ जाओ तुम अब क्यों रूठे हो तुम आकर तुम बोलों राज रूठने का खोलों आओ न प्रीतम तेरे यादों को मैं बयां किस कदर करूँ ये...

  • नारी

    नारी

    नारी एक चट्टान है जो तुफान आने पर अपने जगह पर अडिग रहती है! नारी एक संकल्प है जो अपना काम सही समय पर पूरा कर लेती ह! नारी एक भावना है जो हर दिल की...

  • जीवन के अनमोल पल

    जीवन के अनमोल पल

    जीवन के अनमोल पल को व्यर्थ नही गवाना चाहिए समय का सदुपयोग सही कर नित आगे बढ़ना चाहिए संगी साथी सबके साथ मिलजुल कर रहना चाहिए जीवन ने क्या – क्या सिखलाया नित चिंतन करना चाहिए...

  • कविता

    कविता

    ऐसा क्या हो गया अपने ही दूर हो गये गैरों में प्रेम-भाव अपने द्वेष से भरे ऐसी क्या खता हुई कि अपने दूर चले गये! याद है वो समय जब सब भाई -बहनें मिलकर साथ खाते...