भजन/भावगीत

कृष्ण भजन

-: निशदिन मोहन:- निशदिन मोहन तुझको ही पुकारूं सांझ सवेरे तेरा रस्ता निहारूं सांवरी सूरत पे जाऊं बलिहारी हारी रे बिहारी अपना दिल भी मै हारी ये दिल और जान तुझपे वारूं निशदिन मोहन…….. कब ते निहारूं तेरी मोहनी मूरत आजा रे कन्हैय मुझे तेरी जरूरत तेरी हर अदा लगती है सुहानी बनी रे दीवानी […]

भजन/भावगीत

श्याम

मन में बसी श्याम की मनमोहक काया। अधरों पे सजे बांसुरी जाने सुर क्या सजाया। भूल गई सब काम धाम मैं देखो सखी री, ह्रदय उस मोर मुकुट संग जब से लगाया। कहीं धुन मघुर बजाए कहीं माखन है चुराए, देख देख भोली सूरत दिल न कभी भर पाया। रास जब रचाए है श्याम सखियों […]

भजन/भावगीत

आई तीजों प्यारी आई

हरियाली तीज राधे झूला झूलन आई, झोंटे देवत कन्हाई झोंटे देवत कन्हाई, आई तीजों प्यारी आई-राधे झूला झूलन———-   1.राधे सज-धज झूलन आई, लाल चुनरिया शीश सजाई कान्हा प्यारे के मन भाई, झोंटे देवत कन्हाई-झोंटे देवत कन्हाई——- 2.सखियों ने मेहंदी घोली, मेंहदी राधे हाथ रचाई कान्हा प्यारे के मन भाई, झोंटे देवत कन्हाई-झोंटे देवत कन्हाई——- […]

भजन/भावगीत

गाइए गणपति गुण गाइए

गाइए गणपति गुण गाइए                                        भजन गौरी शंकर सुवन मनाइए (3)- गाइए गणपति गुण गाइए—- 1.गणपति सबके काज संवारें, गणपति सबके कष्ट निवारें- 2.गणपति सबके भाग्यविधाता, गणपति सिद्धिविनायक त्राता- 3.ऋद्धि-सिद्धि के गणपति स्वामी, घट-घट व्यापी अंतर्यामी- 4.श्रद्धा […]

कविता पद्य साहित्य भजन/भावगीत

गुरु पंचश्लोकी

“गुरु पंचश्लोकी” सद्गुरु-महिमा न्यारी, जग का भेद खोल दे। वाणी है इतनी प्यारी, कानों में रस घोल दे।। गुरु से प्राप्त की शिक्षा, संशय दूर भागते। पाये जो गुरु से दीक्षा, उसके भाग्य जागते।। गुरु-चरण को धोके, करो रोज उपासना। ध्यान में उनके खोकेेे, त्यागो समस्त वासना।। गुरु-द्रोही नहीं होना, गुरु आज्ञा न टालना। गुरु-विश्वास […]

भजन/भावगीत

गुरु पूनम की वेला है

गुरु पूनम की वेला है, लगा यहां आज मेला है                              16.7.16 गुरु-आशीष पाने का, समां प्यारा सुहेला है-   1.गुरु ने है बताया, सभी को है सिखाया, प्रभु से पहचान कैसे हो वो कण-कण में समाया, जिसने चाहा है पाया, वो […]

कविता भजन/भावगीत

वन्दना

“वन्दना” इतनी ईश दया दिखला, जीवन का कर दो सुप्रभात। दूर गगन में भटका दो, अंधकारमय जीवन रात।।1।। मेरे कष्टों के पथ अनेक, भटका रहता जिनमें यह मन। ज्ञान ज्योति दर्शाओ प्रभो, सफल बने मेरा यह जीवन।।2।। मेरी बुद्धि की राहों में, ये दुर्बुद्धि रूप पाषाण पड़े। विकशित ज्ञान की सरिता में, ये अचल खड़े […]

भजन/भावगीत

भजन

राधे कृष्ण राधे कृष्ण राधे कृष्ण गा अपने मन में ध्यान लगा के राधे कृष्ण गा-   1.मन में राधे कृष्ण बसें तो मन-मंदिर बन जाय मन वृंदावन मन बरसाना मन गोकुल कहलाय राधे कृष्ण नौका से तू भवसागर तर जा अपने मन में ध्यान लगा के राधे कृष्ण गा-     2.कण-कण में जब […]

भजन/भावगीत

मुरलिया करत हिया में झंकार…

मुरलिया करत हिया में झंकार। अधर धरै जब कृष्ण कन्हैया बाजत दिल के तार। मुरलिया करत हिया में झंकार… खग दृग सुध बुध भूलै सारी तान धरै जब जब गिरधारी। गोप गोपियां सम्मोहित हो कहते बलिहारी बलिहारी॥ कोयल कूकै मोर नाचकर, करते हैं मनुहार…. मुरलिया करत हिया में झंकार… सुन मुरली की तान हुआ है […]

भजन/भावगीत

जीवन पल पल यूं ही बीत रहा, आडंबर छोडिये।

जीवन पल पल यूं ही बीत रहा, आडंबर छोडिये। यदि जाना है भवपार, प्रभो से नाता जोडिये॥ मन मोह माया में लीन हुआ, तन भोगवाद आधीन हुआ। अपना कर्तव्य भुला बैठा, जीवन का सार मलीन हुआ॥ भटकेगा जीवन पग पग, सच से मुख न मोडिये…. यदि जाना है भवपार, प्रभो से नाता जोडिये…… यह तेरा […]