सामाजिक

संस्कृत भाषा की महत्ता

आज संस्कृत एवं जर्मन भाषा को लेकर चर्चा जोरो पर हैं। तीसरी भाषा के रूप में केंद्रीय विद्यालयों में जर्मन के स्थान पर संस्कृत भाषा को लागु करने के सरकार के फैसले का कुछ लोग जोर शोर से विरोध कर रहे हैं। उनका कहना हैं की जर्मन जैसी विदेशी भाषा को सीखने से रोजगार के […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

वेदों की उत्पत्ति कब व किससे हुई?

भारतीय व विदेशी विद्वान स्वीकार करते हैं कि वेद संसार के पुस्तकालय की सबसे पुरानी पुस्तकें हैं। वेद चार है, ऋग्वेद, यजुर्वेद, सामवेद और अथर्ववेद। यह चारों वेद संस्कृत में हैं। महाभारत ग्रन्थ का यदि अध्ययन करें तो ज्ञात होता है कि महाभारत काल में भी वेद विद्यमान थे। महाभारत में योगेश्वर श्री कृष्ण और […]

सामाजिक

बुढ़ापा और औलाद

आज की संतान बहुत सब्र की बहुत कमी है जवानी में कदम रखते ही उन्हें बुजुर्गो की तरह सत्ता चाहिए ! वे यह भूल जाते है की यह प्रक्रिया समयानुसार स्वत: चलित होती रहती है और ऊनके बुजुर्ग होने पर उन्हें उसी प्रकार प्राप्त हो जाती है लेकिन उन्हें अपनी अस्मिता खतरे में नजर आतीहै। […]

राजनीति

छह माह में आशाओं के नये दीप जले

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में पूर्ण बहुमत वाली भाजपा गठबंधन सरकार के अब छह माह पूर्ण हो गये हैं। इन छह माह में मोदी सरकार जिस प्रकार से आगे बढ़ रही है उससे देश की जनता में आशा की नयी उम्मीद जगी हैं नये दीप जले हैं। विगत छह माह में काफी कुछ बदलाव […]

इतिहास

आर्य (हिंदी) भाषा की वर्ण एवं लिपि का आरम्भ कब हुआ?

शंका– आर्य (हिंदी) भाषा की वर्ण एवं लिपि का आरम्भ कब हुआ? समाधान– आर्य (हिंदी) भाषा की लिपि देवनागरी हैं। देवनागरी को देवनागरी इसलिए कहा गया हैं क्यूंकि यह देवों की भाषा हैं। भाषाएँ दो प्रकार की होती हैं। कल्पित और अपौरुषेय। कल्पित भाषा का आधार कल्पना के अतिरिक्त और कोई नहीं होता। ऐसी भाषा […]

सामाजिक

एक और (अ)संत रामपाल

हिसार, हरियाणा पुलिस ने स्वयंभू संत रामपाल को आखिर में गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश कर दिया| फ़िलहाल वह पूछ ताछ के लिए पुलिस की निगरानी में है. उसकी गिरफ्तारी से पहले जो भी नाटक हुए उससे पूरा देश परिचित है. बीमारी का बहाना बनाकर कोर्ट और पुलिस से बचने का नाटक करनेवाले रामपाल पूर्णत: […]

राजनीति

ममता बनर्जी का अराजक राजनैतिक आचरण

पश्चिम बंगाल की राजनैतिक हवा का रूख अब काफी तेजी से बदलता लग रहा है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अब पहली बार अपने आप को असुरक्षित महसूस करने लग गयी हैं। शारदा चिटफंड घोटाले और बर्दमान विस्फोट की जांच का काम जैसे-जैसे आगे बढ़ रहा है, वैसे-वैसे ममता बनर्जी के लिए मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। […]

ब्लॉग/परिचर्चा सामाजिक

फलित ज्योतिष पाखंड मात्र है

ज्योतिष के नाम पर विभिन्न प्रकार के प्रपंच समाज में देखने को मिलते हैं। वर्तमान में शिक्षा मंत्री स्मृति ईरानी द्वारा भीलवाड़ा के ज्योतिषी नाथू लाल व्यास को हाथ दिखाने की खबर मीडिया में जोर शोर से उठ रही हैं। विपक्ष देश के शिक्षा मंत्री को सलाह दे रहा हैं कि उन्हें वैज्ञानिक सोच को […]

सामाजिक

जुकाम की दवा है रूमाल

शीर्षक पढ़कर चौंकिए मत. यह पूरी तरह सत्य है. सर्दी के मौसम में आम तौर पर होने वाले जुकाम का पूरा और पक्का इलाज आप केवल अपने रूमाल से कर सकते हैं. इसे यों समझिये कि हमारे शरीर में तीन दोष होते हैं- कफ, वात और पित्त. जब तक ये तीनों संतुलन की अवस्था में […]

राजनीति

राजनीति का लक्ष्य

राजनीति एक ऐसा मंच है जहाँ समर्पण के बिना कुछ नहीं होता और जिसमे देशप्रेम का जज्बा होता है वही इस क्षेत्र में आगे बढ़ सकता है, वरना घर बैठकर खाने का इरादा रखने वाले बहुत हैं, स्वार्थ सिद्धि में स्वयं को बर्बाद कर लेने वाले बहुत हैं! मैं आशुतोष भैया की एक पोस्ट पढ़ रहा […]