धर्म-संस्कृति-अध्यात्म ब्लॉग/परिचर्चा

हिंदू और साई बाबा: कुछ शंकायें

हिन्दुओं में एक बड़ा तबका साईं बाबा को मानने वाला तथा उनका पूजक है, साईं के एकल मंदिर के आलावा शायद ही कोई ऐसा मंदिर होगा जहां उनकी मूर्ति न हो | साईं संध्या, साईं भजन जैसी सामग्रियां शायद और किसी भी हिन्दू देवी- देवता से ज्यादा उपलब्द हो बाजार में | ब्रह्मण जो कभी […]

स्वास्थ्य

गुर्दे में पथरी का प्राकृतिक इलाज

बहुत से लोगों को गुर्दे में पथरी हो जाती है, जिससे बहुत असहनीय दर्द होता है. ऐलोपैथिक डाक्टरों के पास इसका कोई ठोस इलाज नहीं है, बस यों ही दवा खिलाते रहते हैं और अंत में आपरेशन कर देते हैं, जिसमें बहुत खर्च भी होता है और कष्ट भी. लेकिन चिंता की कोई बात नहीं […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म ब्लॉग/परिचर्चा

आस्तिको द्वारा ईश्वर के विषय में बोला गया झूठ

यदि ईश्वर का अस्तित्व वास्तव में होता तो लोगो में उसको लेके भिन्न भिन्न धारणाये क्यूँ हैं? अलग अलग मतों के लोगो की ईश्वर को लेके मान्यताये मान्यताये अलग और विपरीत क्यों हैं? यंहा तक की हिन्दुओ में ही ईश्वर को लेके सैकड़ो मत प्रचलित हैं । कोई कहता है इश्वर सगुन है तो कोई […]

सामाजिक

खुनी खेल और फूटबॉल के गोल ! आप क्या देखना पसंद करेंगे ?

आज समाचारों में क्या है ? खुनी खेल और फूटबॉल के गोल ! आप क्या देखना पसंद करेंगे ? इसके जवाब में कोई कहेगा “हत्त, ईराक का क्या लेके बैठो ? फूटबॉल  की सुना ! ” तो कोई कहेगा “दुनिया में इतना कुछ हो रहा है इंसानों का वजूद खतरे में है और लोगों को […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म ब्लॉग/परिचर्चा

मैं आस्तिक क्यों हूँ? (भाग – २)

       धर्म और मत/मजहब में अंतर क्या हैं? यह समझने की आवश्यकता हैं। मज़हब अथवा मत-मतान्तर के अनेक अर्थ हैं। मत का अर्थ हैं वह रास्ता जो स्वर्ग और ईश्वर प्राप्ति का हैं जोकि उस मत अथवा मज़हब के प्रवर्तक अर्थात चलाने वाले ने बताया हैं। एक और परिभाषा हैं की कुछ विशेष मान्यताओं पर ईमान […]

ब्लॉग/परिचर्चा राजनीति विविध सामाजिक

सोशल मीडिया और हमारी राजनीति

आज के आधुनिक युग में सोशल मीडिया एक क्रांति के रूप में उभर कर सामने आया है। फिर चाहे वह कोई भी क्षेत्र हो सोशल मीडिया ने अपनी अलग और महत्वपूर्ण पहचान बना ली है। आज चाहे युवा वर्ग हो, राजनैतिक क्षेत्र हो, शिक्षा का क्षेत्र हो, तकनीकी का क्षेत्र हो, स्वास्थ्य का क्षेत्र हो […]

राजनीति

ईराकी इस्लामी युद्ध और भारत पर उसका प्रभाव

ईराक में जो खूनी खेल चल रहा है उसका तो अल्लाह ही मालिक है, वो मालिक इसलिए कि सारा खेल ही उसी के नाम पर हो रहा है, इस्लाम, जिसकी वजह से लिबरल मुस्लिम पूरी दुनिया में शर्मशार होते है और दूसरे सम्प्रदाय के कट्टरपंथियों का निशाना. पहले ये जान ले कि ईराक में क्या […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

मैं आस्तिक क्यों हूँ? (भाग – १)

एक नया नया फैशन चला हैं अपने आपको नास्तिक यानि की atheist कहलाने का जिसका अर्थ हैं की मैं ईश्वर की सत्ता, ईश्वर के अस्तित्व में विश्वास नहीं रखता। अलग अलग तर्क प्रस्तुत  किये जाते हैं जैसे अगर ईश्वर हैं तो दिखाई क्यों नहीं देते? अगर ईश्वर हैं तो किसी भी वैज्ञानिक प्रयोग के द्वारा सिद्ध क्यों नहीं होते? अगर ईश्वर […]

ब्लॉग/परिचर्चा राजनीति

किराये का मकान और केजरीवाल

आदमी अपने कर्मों के कारण कितनी जल्दी अर्श से फ़र्श पर आता है, इसका ताज़ातरीन उदाहरण हैं आप के नेता अरविन्द केजरीवाल। जो आदमी कुछ ही दिन पहले दिल्ली की जनता का हीरो था, आज ज़ीरो है। उसको शरण देने के लिये दिल्ली में कोई तैयार नहीं हो रहा है। समाचार है कि दिल्ली में […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म ब्लॉग/परिचर्चा राजनीति

आज मुसलमान ही मुसलमान का दुश्मन क्यों बना है?

अजीब नज़ारा है. जिस इस्लाम को भाईचारे और समानता की मिसाल के रूप में पेश किया जाता है, आज उसी इस्लाम को मानने वाले एक दूसरे के जानी दुश्मन बने हुए हैं. दुनिया के किसी भी देश में देख लो, जहां भी मुसलमानों की अच्छी खासी संख्या है, वहीँ आज सबसे अधिक अशांति है. भारत […]