Category : राजनीति

  • लेखक अंतत: खलनायक नहीं है!

    लेखक अंतत: खलनायक नहीं है!

    हाल में कन्नड़ लेखक कलबुर्गी की हत्या, अन्य लेखकों की हत्याओं और दादरी में एक शख्स की महज एक अफवाह के चलते हुई कथित हत्‍या के विरोध में जब सरकार ने कुछ नहीं किया तो साहित्य...


  • साहित्यकार और सम्मान वापसी

    साहित्यकार और सम्मान वापसी

    किसी भी भाषा का साहित्य किसी न किसी साहित्यकारों द्वारा ही रचित होता है और साहित्यकार का निष्पक्षता के आभाव में किसी न किसी विचारधारा से सम्बद्ध भी होते हैं | जो मानवीय संवेदनाओं के तहत...

  • जुमले , जनता और जनतंत्र

    जुमले , जनता और जनतंत्र

    जुमले , जनता और जनतंत्र शैतान ब्रह्मपिशाच आरक्षण जातिवाद चारा चोर नर भक्षी डी एन ए जैसे जुमलों के बीच आम आदमी विकास गरीबी मँहगाई भृष्टाचार जैसे सामायिक मुद्दे अचानक परिदृश्य से गायब से हो गए...



  • बिहार चुनाव

    बिहार चुनाव

    लालू-नीतिश के महागठबंधन ने अपने सभी उम्मीदवारों का चयन जातिगत और परिवारवाद के आधार पर किया है। यही काम एनडीए की ओर से भी किया गया है। बिहार के चुनावों में भाजपा सहित सभी दलों ने...


  • आईना बोलता है !

    आईना बोलता है !

    अखिलेश यादव ने बिहार को यू पी का विकास माॅडल दिखाया – एक समाचार । आशा करता हूँ कि सड़कों का हाल भी बताया होगा, जो कि हैं ही नहीं। ऊर्जा का हाल भी बताया होगा...