कविता पद्य साहित्य

फुटपाथ के बशिंदे

पिघल उठता है हृदय,
जब नजर जाती है फुटपाथ पर,
कैसे ? बिताते हैं अपना जीवन।
उस भयानक डगर पर।
अपना बसेरा खुले आसमान में बनाये हैं।
रुलाई गुप्त कमरे में,
उनके हृदय में उमड़ती है।
सुसंस्कृत,बुद्धिमानों की श्रेणी में नहीं आते।
इन सब चीजों से दूर,
उसी परिवेश में जन्मे बालकों का,
परिवरिश करती हैं।
असंख्य स्त्री पुरुष भटकते,
किसी वस्तु की खोज में।
रूकना चाहते हैं कहीं,
लेकिन मिलो दूरियां पैदल चले जाते हैं।
अंधेरी खांई रूपी जीवन को पार करते हुए।
जीवन कठिनाई से काटतें हैं।
गन्दी बस्तियों में नालों के पास,
अपना आहार बनातें हैं।
पत्थर और ईट के चूल्हों पर,
सुलगाते हैं आग।
पकाते हैं भोजन।
वहीं फुदकते हैं दो चार,
ठोस बनी स्त्री-पुरुष की आकृतियाँ।
चिलचिलाती हुई धूप में।
मुझे होती है ग्लानि,
इस देश की असली तस्वीरें देखकर।
आज भी लोग,
इस कदर जीवन जीने पर मजबूर हैं।
पिघल उठता है हृदय,
जब नजर जाती है फुटपाथ पर।
रमेश कुमार सिंह /०७-०८-२०१५

परिचय - रमेश कुमार सिंह 'रुद्र'

रमेश कुमार सिंह (हिंदी शिक्षक ) विद्यालय --उच्च माध्यमिक विद्यालय ,रामगढ़ ,चेनारी रोहतास जन्म तारीख --०५/०२/१९८५ शिक्षा --एम.ए. (हिन्दी,अर्थशास्त्र),बी.एड. हिंदी पता--कान्हपुर ,पोस्ट-कर्मनाशा ,जिला --कैमूर (बिहार)८२११०५ मोब.९५७२२८९४१०/९४७३००००८०/९९५५९९९०९८ Email - rameshpunam76@gmail.com प्राप्त सम्मान - भारत के विभिन्न साहित्यिक संस्थाओं से अब तक 52 सम्मान प्राप्त।

6 thoughts on “फुटपाथ के बशिंदे

  1. रमेश जी , गरीबी जैसा दुःख इस संसार में है ही नहीं . कविता से आँखें नम हो गईं .

Leave a Reply