Author :




  • अतीत की अनुगूंज – 2 : छतरी

    अतीत की अनुगूंज – 2 : छतरी

    बाल्यावस्था की बात करूँ तो सबसे बड़ी विडम्बना होती है मानव बुद्धी का तेज विकास और उसी अनुपात में अनुभवशून्यता ! बच्चे इन दो विरोधी तत्वों के अंतराल में किस प्रकार उलझते हुए विकसित  होते हैं इसका...

  • अतीत की अनुगूंज -1

    अतीत की अनुगूंज -1

    भारत छोड़ने के बाद मैंने अध्यापन में पुनः अपना भाग्य बनाया। पहले दस वर्ष लंदन के उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में गणित पढ़ाया परन्तु फिर गणित पढ़ाने से मन भर गया। मैं हरेक विषय पढ़ना चाहती थी।...


  • साक्षात्कार

    साक्षात्कार

    एक बीस बाइस वर्ष का युवा भरे बाजार में साइकिल चलाता गुज़रता है, जहां भीड़ का अंत नहीं । वह घंटी टनटनाता तेज रफ़्तार आता है। वह समझता है कि घंटी सुनकर सब उसे रास्ता दे देंगे। ...

  • मित्रता की एक और तस्वीर

    मित्रता की एक और तस्वीर

    हम अपने मित्र दम्पत्ति से मिलने लॉन्ग बीच कैलिफ़ोर्निया गए। उनका घर एक गोल परिधि में बनी कोठियों में एक था। करीब बीस एक जैसी इमारतें। बहुत सुन्दर आवासीय संरचना। बीच में गोल घास का घेरा।...

  • कहानी : शो

    कहानी : शो

    सिम्मी और प्रकाश लन्दन की जानलेवा सर्दी से बचने और छुट्टियाँ बिताने ,मेक्सिको के पूर्वी तट पर बसे  शहर कैनकुन चले गए।  यह शहर नया बसाया गया है।  समझो पिछले तीस चालीस वर्षों से ,समुद्र तट के  मांझियों...

  • क्षमारूपेण  संस्थिता

    क्षमारूपेण संस्थिता

    तेईस वर्ष पहले जब नया मकान बनाकर नीता चावला इस मोहल्ले में आईं थीं उनके बच्चे चार और दो वर्ष के थे।  अब बड़ा बेटा जर्मनी चला गया है।  और छोटा नेवी का इंजीनियर बनकर कोचीन...