Author :

  • भूख

    भूख

      भूखी है जिंदगी मेरी साहेब! कुदाल और कस्सी का वजन नहीं देखती अब ना मुड़के देखती है पीठ पर सरकते पसीने को भूखी है जिंदगी मेरी साहेब! मूक बधिर बना दिया है भूख ने मंचों...

  • पूछ रहा हूँ

    पूछ रहा हूँ

    पूछ रहा हूं सब से कि मैं ढूंढ रहा हूं खुद को कहां हूं मैं ? क्या मैं जीवित हूं !!! या मेरा शरीर शिथिल पड़ गया है पाषाण से बैठा कहीं ढूंढता हूं झुर्रियों भरे...

  • आहिस्ता

    आहिस्ता

    बारिश की बौछारों में जब सुबह सुबह खिड़की खोली तो बरामदे में शहतूत से बँधी उस तार को देखा जिस पर बल्ब लगा था ,जो जलता-बुझता रहता था उस तार से एक एक करके बूँदें लगातार...

  • लड़की हुई है!

    लड़की हुई है!

      जिंदगी के घाव जब दर्द देते हैं तो मरहमपट्टी भी चुभने लगती है चोटों के निशान जिंदगी के भयावह उतार चढ़ाव फिर भी जीना है संकरे रास्तों पर चल अपना सर्वस्व समर्पित करके कुंठा और...

  • एहसास

    एहसास

    पहली बार मिले थे ,तब मैं तुम्हें बस देखता रहा उस समय मेरा ख्याल था, कि तुम्हें मैं अपनी आंखों में छुपा लूं बड़ी मुद्दतों और बड़ी कोशिशों के बाद मैं मिला तुमसे दोबारा अबकी बार...

  • नींद

    नींद

    नींद उचट गई है , बारिश की बूंदे भीनी भीनी आसमान से छिटक रही है सवाल था बूंदों से मेरी नींद में खलल क्यों डाल दिया ? जज्बातों की हांडी में कुछ शब्द पक रहे थे...

  • पाठशाला

    पाठशाला

    छटपटाहट देखी सरकारी चोरों की कहने को अध्यापक कहलाते गरिबों का आटा तक खा जाते अध्यापन मात्र एक स्वप्न यहाँ फुला बैठा भ्रष्टाचार का सर्प जहाँ क्यों शिक्षा से गरिब आज भी वंचित है? क्या यही...

  • पिता

    पिता

    मेहनतकश को पूजता पसीने से सराबोर जब देखता है मुस्कुराहट अपने नौनिहाल की तो छिटक देता है पसीना माथे से उठाकर भूल जाता है सारी पीड़ाएं ,दर्द और ठोकरें जो उसने खाई है एक सुनहरा भविष्य...

  • होगा

    होगा

    खोल के रख दी है संदूक दिल की मेरे पास अब छुपा हुआ राज क्या होगा? मौत से हमदर्दी है मेरी बेवफा से नहीं जिंदगी फिर से, तो मेरा जवाब क्या होगा? कलम से पक्के किये...

  • ऊँचे

    ऊँचे

    ऊँची ईमारतें ऊँचे लोग जमीन पर रह गये बस भूखे लोग चढावा सोने-चांदी का अष्ट मिठाई का भोग पेड़ियों पर बैठे रहते लाचार, कुष्ठ रोग परिचय - परवीन माटी नाम -परवीन माटी गाँव- नौरंगाबाद डाकघर-बामला,भिवानी 127021...