Author :

  • मैं कर नहीं दूंगा

    मैं कर नहीं दूंगा

    दिन भर की भागा दौड़ी के बाद शाम को रमुआ अपने घर आया। उसका बेटा घेंघा बहुत सवाल पुछा करता था। रमुआ की पत्नी भाग्यमति अनपढ़ थी। वह दिन भर घर का काम करती रहती। घेंघा...

  • वाह रे मानव

    वाह रे मानव

    ।‌ यहां मानव दानव बना बैठा है अपने ओछे संस्कारों से, कुचल डालता है उभरते हुनर को अपने अहंकारो से। करते नहीं थकते तारीफ ये चापलूस बड़े घरानों के, गाते हैं गीत वही जो पसंद आये...

  • हाय ये इश्क

    हाय ये इश्क

    उसकी चाहत में न जाने क्या – क्या कर बैठें। सुबह को शाम और रात को दिन समझ बैठे। आएगी वो पास मेरे इक ना इक दिन, आश हिबड़े में तब से लगाए बैठे थे।। उसके...


  • योगी बाबा आये है

    योगी बाबा आये है

    योगी बाबा आये है, बच्चों को समझाये है, नकल नहीं करना बाबू, कैमरा लगाए हैं। बहुत प्रसंशनीय कार्य पर बाबा यह ठीक नहीं, गर ऐसा करना था, वर्ष प्रारंभ में ही , शिक्षकों को भी रगड़ना...

  • मेरी अभिलाषा

    मेरी अभिलाषा

    मेरी बस एक यही अभिलाषा है, इन भ्रष्टाचारियों की दुनिया में, ईमानदारी का पाठ पढ़ाऊंगा, मैं कुछ कर के दिखलाऊंगा, जो लोग असहाय लाचार हैं, ना कुछ करने को तैयार हैं, उनका आत्मविश्वास बढ़ा, मैं उनको...