Author :

  • सही मार्ग

    सही मार्ग

    कभी-कभी जिंदगी ऐसे-ऐसे करिश्मे दिखाती है, कि समझ में ही नहीं आता कि यह हुआ तो कैसे और क्यों हुआ! सुबह जब घर से ड्यूटी के लिए निकला था, तो घर की हालत यह थी- ”सुबह...

  • कम्प्यूटर के कीबोर्ड में F1-F12 कीज़

    कम्प्यूटर के कीबोर्ड में F1-F12 कीज़

    हमारे घर में मेरे अलावा छोटे-बड़े सभी कम्प्यूटर-विशेषज्ञ हैं. मैं कम्प्यूटर में जीरो इसलिए रह गई, कि न तो मैंने कोई कम्प्यूटर-कोर्स किया और न ही अंकण-टंकण का. इसलिए कम्प्यूटर की अनेक विशेषताओं को जानने से...

  • नया शब्दकोश

    नया शब्दकोश

    अभी कुछ दिन पहले रूस के एक विमान की इमर्जेंसी लैंडिंग के दौरान सुखोई सुपरजेट 100 में लगी आग, जिसमें 41 लोगों की मौत हो गई थी. बताया जाता है कि यह आग आसमानी बिजली के...


  • झरती हुई संवेदना

    झरती हुई संवेदना

    सुबह-सुबह लैपटॉप खोलते ही स्क्रीन पर आए चित्र को देखकर संवेदना हैरान हो गई. एक तरफ पतझड़ के बिना पत्तों वाले पेड़ तो दूसरी ओर पीले फूलों से लदा हुआ गुलमोहर जैसे फूलों वाला ऑस्ट्रेलियाई जूनियल,...

  • विश्व हास्य दिवस

    विश्व हास्य दिवस

    कल यानी 5 मई को वर्ल्‍ड लॉफ्टर डे था. वर्ल्‍ड लॉफ्टर डे यानी विश्व हास्य दिवस. यह वर्ल्‍ड लॉफ्टर डे आज से 21 साल पहले डॉ. मदान कटारिया द्वारा शुरु किया गया था. यानी यह निहायत...

  • वेदना

    वेदना

    ”वेद पढ़ना आसान हो सकता है लेकिन जिस दिन आपने किसी की “वेदना” को पढ़ लिया तो समझो ईश्वर को पा लिया.” आज सुबह-सुबह साध्या ने सुप्रभात करते हुए यह संदेश भी भेजा था. साध्या ने...

  • फटाक-फटाक- 6

    फटाक-फटाक- 6

    तेजी से बदलते इस युग में खबरें भी तेजी से बदलती रहती हैं. तेजी से बदलती इन खबरों को सहेजने के लिए प्रस्तुत है एक नवीन प्रयास फटाक-फटाक. फटाक-फटाक के इस अंक में ढेर सारी सकारात्मक...

  • तृष्णा

    तृष्णा

    आज शाम को सैर करते हुए पार्क में गई तो पार्वती के अलावा बाकी सब आए हुए थे. मुझे अंदाजा हो गया था, कि पार्वती किस काम में व्यस्त है. पार्वती साथ वाली कॉलोनी के श्रमिकों...

  • यादों के झरोखे से-4

    यादों के झरोखे से-4

    वे दो रूमाल उन दो रूमालों ने सपने में भी नहीं सोचा होगा, कि कोई उनको इतना सहेजकर रखेगा और 15 साल बाद कोई उन पर ब्लॉग लिखेगा. भाई, यह तो अपनी-अपनी किस्मत है. 15 साल...