Author :


  • मिलन

    मिलन

    सूर्य देव चले आहिस्ता आहिस्ता, अस्ताचल को करके अपना काम, संध्या तक रही है राह उनकी, कुछ देर में होगा उनका मिलन, संध्या रानी से , तब खिलेगी संध्या, वातावरण होगा अद्भुत रमणीय, इधर चंदा भी...

  • दो आँखे

    दो आँखे

    वो एक जोड़ी दो आँखे, तकती रहती दरवाजे को, हर एक आहट पर वो , उठ जाती उधर दरवाजे पर, लेकिन हर बार होती निराशा, जब देखती मुझे दरवाजे पर, खुशी से चुपके चुपके वो ,...

  • मामा

    मामा

    हम तो खाली हाथ नहीं जाएंगे , तेरे घर आये है, तो खीर पूरी खाएंगे, मामा का दुलार , मामी का प्यार लेंगे, घर आ मां को, किस्सा सारा सुनाएंगे, सम्पर्क टूट गया तो क्या, उम्मीद...


  • भाई कौन

    भाई कौन

    ” सुनो वो रमन है न वो अपनी सभी की उसके यहां जाने की टिकिट करवा रहा है “। ” कौन रमन ?? ” वो मेरा भाई धर्म का जिसको आप जानते तो हो । यहाँ...

  • रिश्ते

    रिश्ते

    रिश्ता होने से रिश्ता नहीं बनता, रिश्ता निभाने से रिश्ता बनता है। “दिमाग” से बनाये हुए “रिश्ते” बाजार तक चलते है,,,! “और “दिल” से बनाये “रिश्ते” आखरी सांस तक चलते है,.. दिमाग से रिश्ते पल में...

  • बधाई हो

    बधाई हो

    बधाई हो यशोदा मैया बधाई हो बधाई, नन्द घर लाला आया बधाई हो, लाला आने की सुन मैं आई , बधाई हो , बधाई मैया लाला है आया तेरे आँगन, बधाई दे दे मुझे ।। हीरा...

  • पुकार

    पुकार

    जन्माष्टमी पर्व की सभी को बहुत बहुत शुभकामनाएं । कन्हैया आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करें।।💐💐💐 ओ धेनु चरइया कान्हा , माखन चोर कान्हा , असुरों का तुम करते , उद्धार कन्हैया रे, तेरी लीला है अपरम्पार,...

  • मंजिल

    मंजिल

    मंजिल दूर होती हैं तब, कदम तेजी से बढ़ते हैं, ठोकर खा गिरते हैं, सम्भल कर उठते हैं, राह में मिलते राही भी, कभी देते साथ तो, कभी छोड़ देते साथ हैं, फिर भी पाना है...