Author :

  • विदाई

    विदाई

    तुम जा रहे हो ,नही रोकती तुमको, सुनो जाते जाते एक काम करना ।। सबके गम ले जाना संग , मुस्कान दे जाना सबके मुख पर ।। सारी बाधा सबकी संग ले जाना , मेहनत करने...


  • कहानी इश्क की

    कहानी इश्क की

    ” हाय .. ” हाय…. ” कैसी हो, आपने मुझे फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी जानती हो क्या मुझे …….? “नही जानती पर कॉमन दोस्त बहुत है कुछ तो मेरे करीबी रिश्तेदार”। ” ओह्ह मुझे नहीं मालूम था...

  • मेरी तन्हाई

    मेरी तन्हाई

    मैं जब अपनी तन्हाई के साथ,अकेला जब भी होता हूँ ,क्यो तुम चली आती हो , मेरी खामोश आंखों में, क्यो तुम झाँक कर इनमें, अपनी झील सी आंखों में , मुझे डुबोना चाहती हो उनमें...

  • बलि

    बलि

      मां का लाडला इंजीनियरिंग कर अच्छी जगह लग गया बड़े शहर में । उसके लिए बड़े बड़े शहर की लड़कियों के रिश्ते आने लगे ।गरीब खेतिहर मां बाप जिन्होंने बेटे को कैसे इस लायक बनाया...

  • अल्फ़ाज़

    अल्फ़ाज़

      अल्फ़ाज़ कागज़ कलम लिए आज हूँ, तुमको सोचती आज हूँ , ख्वाब से निकाल लूँ, तुमको साकार कर लूँ , तुम्हारे ख्याल को , शब्दों में ढाल लूँ , कहाँ से शुरू करूँ , कहाँ...

  • दीया प्यार का

    दीया प्यार का

    दिल के किसी कोने में , तेरे प्यार का दीया , मैंने जलाया है,।। हमेशा जलता रहेगा । तेरे नाम का दीया, दिल के आंगन में, दीये में है तेल,। मेरे प्यार का , तेरी यादों...


  • कलयुगी राम

    कलयुगी राम

    कलयुगी राम रोहन अपने दादा दादी के साथ गांव में न रह कर माता पिता के साथ पास के शहर में रहता है कारण गांव में कोई अच्छा स्कूल नही ,बिजली भी नही आती थी ।...

  • आवाज़

    आवाज़

    आवाज़ मेट्रो शहर की एक पॉश कहलाने वाली कॉलोनी जिसमें बड़े बड़े बंगले सुरक्षा गार्ड के साथ स्थित है । बड़ी बड़ी इमारतें जिसमें फ्लेट बने हुए है । उसमें रहने वाले सभी अपने काम काम...