Author :


  • गर्व

    गर्व

    गर्व फूलों की दुकान में बहुत चहल पहल हैं हो भी क्यों नही आज चौदह फरवरी जो है । नवयुवक युवतियां आ कर अपनी अपनी पसंद के गुलाब ले रहे है । अपने आभासी प्रेम का...

  • मर्द

    मर्द

    मर्द @ रात को एक बजे वो लड़की का हाथ पकड़े जोर से घर मे दाखिल होता है । माँ जो कि बेटी और पति का इंतजार कर रही है वो आश्चर्य से कभी बेटी को...


  • प्रीत की रीत

    प्रीत की रीत

    मोहन और लसिका साथ एक ही कॉलेज में पढ़ते है । मोहन को कूची, रंगों से प्यार है तो लसिका को उसके चित्रों से । मोहन के बनाये हर चित्र लसिका के साथ औरों को भी...


  • क्यों,कब तक

    क्यों,कब तक

    आखिर क्यों ,कब तक , हमको कोसोंगे आप , कसूर क्या है हमारा ???? हम सैनिक है शायद, यही बड़ा कसूर है हमारा । हम आपके लिए खड़े है, रात दिन देखे बिना सीमा पर। यही...


  • जन्मदिन

    जन्मदिन

    सुदर्शन को कितनी मुश्किल से उसको सिर्फ दस दिन की छुट्टियां मिली है ।अपने जीवन का खास दिन वो जीवन देने वाली मां, जीवन के पथ पर साथ देने वाली संगिनी ओर जीवन का आधार उसके...

  • विदाई

    विदाई

    तुम जा रहे हो ,नही रोकती तुमको, सुनो जाते जाते एक काम करना ।। सबके गम ले जाना संग , मुस्कान दे जाना सबके मुख पर ।। सारी बाधा सबकी संग ले जाना , मेहनत करने...