इतिहास

लेख – जापान

जापान, एशिया महाद्वीप में स्थित देश है। जापान चार बड़े और अनेक छोटे द्वीपों का एक समूह है। ये द्वीप एशिया के पूर्व समुद्रतट, यानि ये प्रशांत महासागर में स्थित हैं। इसके निकटतम पड़ोसी चीन कोरिया तथा रूस हैं।जापान में वहाँ का मूल निवासियों की जनसंख्या ९८.५% है। बाकी 0.5% कोरियाई, 0.4 % चाइनीज़ तथा […]

कविता

कविता

कतरा कतरा जिये बूंद बूंद मरे शबनम नही बस आसूं मिले हमारा दिल तो तुम्हारा खिलौना था जो अब चूर है तुम भी क्या खूब निकले अपनाया भी नही छोड़ा भी नही भंवर में ले आये किनारा कह कर डूबोया भी नहीं निकाला भी नही जब जब यकीन किया तुम पर तो तुमने वादा तोड़ा […]

कविता

कविता : साया

आज सड़क पर देखा एक अकेला साया चला जा रहा था चुप चाप अपने में खोया सा मैंने धयान से देखा कुछ जाना पहचाना सा लगा कुछ उदास सा अपने में गुम बस चला जा रहा था मै कुछ आगे बड़ी वो भी आगे बड गया मै कुछ तेज़ चली उसकी चाल भी तेज़ हो […]

कविता

गृहिणी

बरसो बाद खुद का ख्याल आया आइना नहीं याद आया कुछ अपने अंतर में कुलबुलाता सा पाया अपने लेखन का ख्याल आया भूल गयी रसोई और घर बार सब कुछ छोड़ कर थाम ली कलम क्या लिखू कुछ समझ ना आया लेकिन मन की उड़ान को कोई रोक न पाया चोरी से ही लिखी हुई […]

सामाजिक

बाल श्रम : जागो भारतीय जागो

खेलने कूदने के दिनों में कोई बालक श्रम करने को मजबूर हो जाय तो इससे बडी विडम्बना समाज के लिए हो नहीं सकती । बाल श्रम एक ऐसा सामाजिक अभिशाप है जो शहरो में, गॉव में चारों तरफ मकडजाल की तरह बचपन को अपने आगोश में लिए हुए है । बाल श्रम से परिवारों को […]

क्षणिका

नम्रता

झुकते गये निभाने के लिये हर रिश्ता सुना था फल झुकी हुई डालियों पर लगते हैं लोगों ने हमारे झुकने को समझ लिया हमारी कमजोरी जो भी गुज़रा पास से हमारे पत्थर मार कर आगे बढ़ गया….. — रमा शर्मा

कविता

मेरा मेकअप

मेरे पास कुछ नहीं था अपना बस दो चीजें लेकर जीवन में चली एक थी मुस्कुराहट और एक थी दुआ वो भी न रख पाई अपने लिये बाँटती रही सदा दूसरों को अपने पास दो चीजें छिपा लीं थी एक था गम और एक थे आंसू इन्हे किसी को नहीं दे पाई कभी सारा गम […]

सामाजिक

भारत में लिंग भेदभाव

‘भारत लिंग भेदभाव समीक्षा 2009’ की रिपोर्ट को जारी किया गया, जिसमें इस तथ्य को उद्घाटित किया गया कि भारत लिंग जनित विश्व आर्थिक मंच की 134 देशों की सूची में 114वें स्थान पर है। विकास के मामले में दक्षिण अफ्रीका, नेपाल, बांग्लादेश एवं श्रीलंका भले ही भारत से पीछे हों, परंतु स्त्रियों और पुरुषों […]

कविता

कविता

वो पेड़ो की छांव ठंडी मस्त हवा वो नंगे पांव दौड़ना न भूख लगना न प्यास सरपट भागना वो चोरी से आम तोड़ना पकड़े जाने पर खूब पिटना अगले दिन से फिर वोही — रमा शर्मा