ब्लॉग/परिचर्चा राजनीति

चुनावों के बाद उत्तर प्रदेश में व्याप्त है जंगलराज

चुनावों की समाप्ति व परिणामों के बाद प्रदेश में वाकई जंगलराज स्थापित हो गया है। प्रदेश में महिलाओं व युवतियोें के साथ बलात्कार सहित जघन्य हत्याओं जैसी शर्मनाक वारदातों की बाढ़ सी आ गयी है। ऐसा प्रतीत ही नहीं हो रहा है कि उत्तर प्रदेश अब भगवान राम, कृष्ण व फिर संत कबीर व तुलसीदास […]

कहानी

कलयुगी पुत्र

एक बूढी औरत , कुम्भ के मेले में बैठी रो रही थी । वह बहुत परेशान लग रही थी और बार बार यही बात दोहरा  रही थी ” नहीं… मेरा बेटा जरूर आएगा… वो मेरे साथ ऐसा नहीं कर सकता… उसने कहा था- माँ तू यहीं बैठ मैं अभी आया।” वो बेचारी पागलो की तरह आते-जाते […]

गीतिका/ग़ज़ल

दिल्लगी करते रहे

यूँ मुसलसल ज़िन्दगी से मसख़री करते रहे ज़िन्दगी भर आरज़ू-ए-ज़िन्दगी करते रहे एक मुद्दत से हक़ीक़त में नहीं आये यहाँ ख्वाब कि गलियों में जो आवारगी करते रहे बड़बड़ाना अक्स अपना आईने में देखकर इस तरह ज़ाहिर वो अपनी बेबसी करते रहे रोकने कि कोशिशें तो खूब कि पलकों ने पर इश्क़ में पागल थे […]

स्वास्थ्य

सेहत, सबके लिए

( पहले देखिए  शाँति, सबके लिए ) मज़दूरी, खेती, व्यापार और फ़ैक्ट्रियों में प्रोडक्शन, हम इनमें से कुछ भी नहीं कर सकते, अगर समाज में शाँति नहीं है। अगर लोग शाँति के साथ सड़कों पर आ-जा नहीं सकते, तो वे कोई रचनात्मक काम भी नहीं कर सकते। ऐसे में हमारे बच्चे स्कूल भी नहीं जा सकते […]

गीतिका/ग़ज़ल

गाँव से एक दिन शहर को

सागर की लहरों पर कदम बिछाकर आये थे हम यूँ गाँव से एक दिन शहर को आये थे बहुत छोटी सी एक थाली थी किनारों वाली अपनी आरजु के सारे महताब भर आये थे तुलसी की महक वो सूरजमुखी को अपनी ओर मुड़ते देखना बागबान जितने भी मिले शहर में बस काँटों के गुल बैचने […]

कविता

“अपेक्षा ही उपेक्षा की वजह हैं”

हां!मैं भी समझती हूं,..“अपेक्षा ही उपेक्षा की वजह हैं”पर तुमने कभी ये सोचा  अपेक्षा की वजह क्या है??? शायद तुम्हे याद नही हमारे बीच एक रिश्ता है, रिश्ता कोई भी हो,. हर रिश्ते का होता एक दायरा,.. दायरे में होते हैं कुछ अधिकार, और अगर अधिकार में प्रेम शामिल हो,.. तो पनपती है अपेक्षाएं,.. तुम्हे […]

राजनीति

वैश्विक जगत को भी मोदी से अच्छे संबंधों की आस

गुजरात में मुख्यमंत्री पद से लेकर नरेंद्र मोदी का प्रधानमंत्री बनने तक का सफर कई मायनों मेें काफी ऐतिहासिक व परिवर्तनकारी रहा है। जिसके चलते वे पूरे विश्व के मीडिया जगत के हीरो बन गये हैं। मोदी सरकार से देश की जनता को ही नहीं अपितु वैश्विक जगत को भी कई क्षेत्रों में अच्छे दिन […]

ब्लॉग/परिचर्चा राजनीति

देश को मिला एक भावुक प्रधानमंत्री

अभी तक हमारा देश मनमोहन सिंह के रूप में पिछले 10 साल से जिस प्रधानमंत्री को झेल रहा था, वे अपने भावहीन चेहरे के लिए कुख्यात हैं। प्रसंग चाहे सुख का हो या दुःख का, उनके चेहरे पर किसी भी तरह के भाव पढ़ पाना असम्भव था। अपने शाश्वत और स्थायी मौन के कारण भी […]

सामाजिक

स्मृति ईरानी और लार्ड मेकाले की शिक्षा

समरस समाज, प्रेरणादायक नेतृत्व और नागरिकों के उच्च चरित्र ही देश और समाज के सर्वंगीण विकास में सहायक होते हैं। फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथेमेटिक्स, इतिहास, भूगोल और अर्थशास्त्र की किस पुस्तक में लिखा है कि बड़ों का सम्मान करो, स्त्रियों को मां-बहन का सम्मान दो, माता-पिता-गुरु को पैर छूकर प्रणाम करो। राम, कृष्ण, गौतम, गांधी के […]