Monthly Archives: March 2019

  • कहां वो स्वर्ग

    कहां वो स्वर्ग

    कहां वो स्वर्ग सी सुंदर धरती कहां हो पुष्पों से भरी वाटिका, हिमालय की कोख में बसी श्यामल गात्र सुंदर वीथिका। झेलम की नीर पग पखारती कल कल ध्वनि करती हुई, सिंचित करती वादियों को बहती...

  • अभिनंदन

    अभिनंदन

    अभिनंदन का अभिनंदन है। दुश्मन के बल का मर्दन है। छिपा सका कब कोई भला दिनकर के अखंड तेज को।। सत्य झुकता नही चाहे हो कितनी कठिन परिस्थितियों में। शेरों के शमशेर है हमारे सैनिक हरा...


  • हींग लगे न फिटकरी

    हींग लगे न फिटकरी

    पाकिस्तानियों ! इमरान ख़ान को गालियाँ मत दो। हिन्दी में कहावत है-“हींग लगे न फिटकरी रंग भी चोखा आए” अर्थात् बिना कोई प्रयास के काम संपन्न हो गया। बेचारा पाकिस्तान की आर्थिक बदहाली के कारण आतंकवादियों...

  • गज़ल

    गज़ल

    दामन तेरा अश्कों से भिगोया नहीं गया रोने का मन तो था मगर रोया नहीं गया आँखों के समंदर में तैरते रहे गुहर एहसास को लफ्ज़ों में पिरोया नहीं गया क्या कह दिया न जाने तुमने...

  • गज़ल

    गज़ल

    दबा के रखो न दिल में सवाल जो भी हो कि चारागर से न छुपेगा हाल जो भी हो इश्क जब हो ही गया है तब परवाह कैसी नतीजा इसका हिज्र या विसाल जो भी हो...

  • ठक-ठक, ठक-ठक-10

    ठक-ठक, ठक-ठक-10

    ठक-ठक, ठक-ठक-1 ”ठक-ठक, ठक-ठक”. ”कौन है?” ”मैं हूं पत्रकार.” ”कौन-से पत्रकार?” ”एकता का पत्रकार.” ”एकता, यानी एकता कपूर?. ”आपके मन में एकता कपूर बस रही है तो आप वही समझिए, वैसे मैं देश की एकता का...