राजनीति

विश्व में अद्भुत है हमारा संविधान

देश का संविधान राष्ट्र का आईना ही नहीं बल्कि एक राष्ट्र का प्रकाश है। जो राष्ट्र को  मार्गदर्शक बन कर गतिमान करता है सब को एक सूत्र में बांधकर एकत्व के भाव में पिरोने का काम करता है।एक संविधान राजनीतिक व्यवस्था का बुनियादी ढांचा ही नहीं बल्कि राष्ट्र की शक्ति को एकता में पिरोहित करते […]

कविता

मैं दीप की ज्योति हूं

सौंदर्य के गंगाजल में, मैं खुशियां बांट देता हूं। खुद जलकर भी सदा, मैं रूप सजा देता हूं। दुःख में और सुख में मैं सदा कांति को फैलाता हूं। जीवन के आलोक में, मैं तम को हरा देता हूं। घोर अंधेरी कालीमां में, मैं जुगनू सम तम हर लेता हूं। एक होकर अनेकों में, मैं […]

धर्म-संस्कृति-अध्यात्म

सदा उम्मीदों के दीए जलाए रखें

प्रकाश देता है जीवन में उर्जा, सौंदर्य, खुशहाली, समृद्धि का संचार, उमंग, हौसलों कि नई उड़ान, नई सौगात।दीप जीवन के संसार में दु:ख दर्द की कालीमा को तो नाश करता ही है साथ ही जीवन में सांसो की औषधि प्रदान करता है। दीप हमें सिखाता है उम्मीद रूपी किरण की रस्सी को पकड़कर आगे बढ़ने […]

कविता

एक ऐसा दीप जलाना तुम।

मैं दीप जलाकर रखता हूं। मैं मंगल गीत गाता हूं। मैं हौसलों को मुट्ठी में रखता हूं। मैं खुशियों के गीत गाता हूं। उन अंधेरों को हरा दो। जो समृद्धि का संहार करे। उन उजालों को बचालो। जो इतिहासों को फिर से गढ़े। हर घर आंगन रोशन हो, यहां खुशियों का मौसम हो। मन का […]

कविता

भारत का अभिमान है हिंदी

धरती पर निराली हिंदी। आसमान को छू गई हिंदी। मन भावों में भा गई हिंदी। झरने सी मीठी हे हिंदी।। भारत का अभिमान है हिंदी। सबको गले लगाती हिंदी।। दिल से प्यार लुटाती हिंदी। इंद्रधनुषी रंगोली हिंदी। जग में न्यारी- न्यारी हिंदी। भारत का अभिमान है हिंदी। भारत  मां की प्यारी  बिंदी। आन- बान सम्मान […]

कविता

हिंदी रही सदा प्यार की परिभाषा

हिंदी रस की खान है। हिंदी भारत की शान है हिंदी हमको नव ज्ञान दे। हिंदी सब को वरदान दे। हिंदी झरने सी मीठी। हिंदी सबको देती रोटी। हिंदी भाषा में है ममता। हिंदी भाषा में है समता। हिंदी हमारी हे पहचान। हिंदी भारत की हे जान। हिंदी भाषा है गुणों की खान। हिंदी भाषा […]

भाषा-साहित्य

दुनिया में बढ़ती हिंदी, आसमान को छूती हिंदी

भाषा समाज की पूंजी है जो निरंतर प्रवाह मान के साथ अपनी संस्कृति और संस्कारों की सदा संवाहक होती है। भाषा जनमानस की अभिव्यक्ति का सबसे सशक्त माध्यम है। भाषा लोक साहित्य की प्रिय और सरल अभिव्यक्ति है ।साहित्य परंपरा के लिए भाषा बेजोड़ अभिव्यक्ति है। भाषा के बिना समाज अधूरा और व्यक्ति अंधे के […]

कविता

हिंदी भाषा

हिंदी मां की ममता जैसी। हिन्दी मां की लोरी जैसी। हिंदी सितार की है झंकार। हिंदी सिखने की है ललकार। हिंदी आज हरजन की पुकार। हिंदी भारत मां की धड़कन। हिंदी पर हम सबको अभिमान। हिंदी पर हमारा स्वाभिमान। हिंदी प्यारी राज दुलारी। हिंदी भाषा जग में न्यारी। हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने की करो तैयारी। […]

सामाजिक

गुरु-शिष्य का फेस्टिवल “शिक्षक दिवस”

इंसान के जन्म के बाद एक नया रूप , नया आकार, एक नए ज्ञान रूपी आकाश देकर संसार में नवजीवन देने का काम यदि कोई करता है तो वह गुरु करता है। आज उसी गुरु को हम शिक्षक कहते हैं। जीवन में अनेक गुरु होते हैं। जीवन में अपने ज्ञान से शिक्षक सदा मानव के […]

कविता

तिरंगा

भारत की शान तिरंगा आजादी की पहचान तिरंगा आन-बान-शान तिरंगा। भारत की पहचान तिरंगा। देश भक्तों की ललकार तिरंगा। शहिदों का कफन तिरंगा। अमर शहीदों की गाथा तिरंगा। आजादी की अमर कथा तिरंगा जग में न्यारा सबसे प्यारा। अपना तिरंगा,अपना तिरंगा। तीन रंगों का अपना तिरंगा। हर रंग से अनमोल  तिरंगा। वीरता शांति समृद्धि का […]