Category : बाल कहानी

  • बाल कहानी :  हीरा मोती

    बाल कहानी : हीरा मोती

    टिंकू स्कूल से घर जा रहा था । रास्ते में उसे एक दुबली–पतली भिखारिन मिली, जिसका पेट भूख के कारण अंदर घुस गया था। साड़ी भी जगह –जगह से फटी , मैली कुचैली। उसने अपनी कमजोर...



  • बाल कहानी : ‘हर जीव जरूरी’

    बाल कहानी : ‘हर जीव जरूरी’

    जंबो हाथी ने चिंघाड़ते हुए कहा-‘‘आज फैसला होकर ही रहेगा। शेर सिंह ने आज फिर हिरनों के झुण्ड पर हमला बोल दिया। हमें अपना राजा बदलना ही होगा।’’ रंभा गाय बोली-‘‘चंपकवन में जीना मुहाल हो गया...




  • बाल कहानी – ओढ़ ली रजाई

    बाल कहानी – ओढ़ ली रजाई

    वसंत आया। चींटी के बच्चों ने कहा-‘‘मम्मी! हम कब तक अंधेरे में रहेंगे? हमें दुनिया देखनी है।’’ चींटी ने डाॅटते हुए कहा-‘‘चुप रहो। अभी तुम बच्चे हो। जब बड़े हो जाओगे, तब जाना।’’ एक बच्चे ने...