Category : गीत/नवगीत

  • आह्वान-गीत

    आह्वान-गीत

    आओ निरंतर पथ चले और, मंजिल का हम वरण करें। पथ की बाधाओं, कांटो का, पौरुष के बल दमन करें।।1।। मानव जीवन की क्षमता, योग्यता का लाभ उठाएं। बैठे रहने से क्या होना, मंजिल के पथ...

  • गीत – हमें जमीं से प्यार है।

    गीत – हमें जमीं से प्यार है।

    थार ही बस थार है, कि जिंदगी खुमार है। जिंदगी के मायने क्या, हमें जमीं से प्यार है।।1।। तीज, बीज, चैदहवीं, प्रकाश लाती पूर्णिमा। दूर-दूर ढाणियां पर, पास-पास दिल जमा।।2।। प्रीत-रीत, वाह अनूठी, रोज एक त्यौहार...

  • नवगीत – मेहनतकश, मतवाले

    नवगीत – मेहनतकश, मतवाले

    मेहनतकश मतवालों की यहां, नहीं रहेगी मुट्ठी खाली। तम का तख्त बदल देंगे हम, पूरब में फिर होगी लाली।।1।। चल पड़े है मेहनत के पथ, फूल कांटे ना गिनेंगे। मुश्किल है सौ आजमाएं, हम राहों से...


  • कलयुगी दर्द!!

    कलयुगी दर्द!!

    दीवाने से ये मत पूछो ,ये क्या दर्द छुपाये बैठा है । तन -मन सब विह्वल है ,तो मन मुरझाये बैठा है ।। हंसी नहीं है ख़ुशी नहीं है , जहां भी देखू ,कंही नहीं है...

  • हिंदी की मशाल

    हिंदी की मशाल

    हिंदी दिवस 14 सितम्बर पर विशेष गीत    (हिंदी की मशाल)2 लेके हमने अलख जगाया है (हिंदी की मशाल) हिंदी की मशाल लेके हमने अलख जगाया है जीवन को सजाया है-(हिंदी की मशाल)     1.चाहे...