Category : कथा साहित्य

  • स्ट्रीट चिल्ड्रन

    स्ट्रीट चिल्ड्रन

    स्ट्रीट चिल्ड्रन ‘देखा, उसके हाथ में कितना सुन्दर गिलास है’ बातुल ने गंजू से उस गिलास से कोई पेय पदार्थ पीते हुए अमीर से दिखने वाले लड़के की तरफ टुकुर-टुकुर देखते हुए कहा। बातुल और गंजू सड़क...

  • कश्मीर यात्रा : एक अनुभव

    कश्मीर यात्रा : एक अनुभव

    जुलाई के दूसरे सप्ताह में हमने अपने कुछ रिश्तेदारों के साथ कश्मीर का भ्रमण किया। कश्मीर में आतंकवादी घटनायें लगभग समाप्त हो जाने के कारण हमने यह हिम्मत की और ईश्वर की कृपा से यात्रा निर्विघ्न...

  • विश्वास के पंख

    विश्वास के पंख

    ऑस्ट्रेलिया से कवि सम्मेलन में धूम मचाकर मिन्नी अपनी मां सविता के साथ पेरिस कवि सम्मेलन में भाग लेने के लिए फ्लाइट में बैठी कविता लिखने में व्यस्त थी. सविता उसे व्यस्त देखकर बहुत खुश भी...


  • नफ़रत।

    नफ़रत।

    अपनी मम्मी को आवाज़ लगाता ध्रुव चुपचाप वहीं खड़ा हो गया, मम्मी और दादी आपस में झगड़ रहे थे। दादी गुस्से वाले थे मगर उनके गुस्से में स्वार्थ के साथ-साथ फिक्र भी थी, मम्मी को आजाद...

  • खुशी का ज्वालामुखी

    खुशी का ज्वालामुखी

    दक्षिण कोरिया की रहने वाली चोई सून बहुत खुश थी. 77 साल की एक बुजुर्ग चोई सून का मॉडलिंग की शुरुआत करना कोई आसान काम तो नहीं था न! पर जब उसने ठान ही लिया था,...

  • सुरक्षा-कवच

    सुरक्षा-कवच

    मुस्कान की मुस्कान वापिस लौट आई थी. पढ़ाई में भी उसका मन लगने लगा था. कैसे हुआ यह सब! मुस्कान कभी-कभी सोचने लगती थी. ”मुस्कान बेटी, आजकल तेरी मुस्कान कहां गायब हो गई है?” मां ने...


  • खोज

    खोज

    आत्महत्या करने के इरादे से वह घर से निकला था, लेकिन अब खोज में चल पड़ा था. उसे खुद भी हैरानी हो रही थी. स्मृतियों ने अपना पिटारा जो खोल दिया था. वह रात को आत्महत्या...

  • लघुकथा -बहकते कदम

    लघुकथा -बहकते कदम

    “देख नीति, तू ऐसा वैसा कुछ करने की सोचना भी मत| मनीष अच्छा लड़का नहीं है, माना कालिज में तुम्हारा अच्छा मित्र है | उसके साथ अधिक निकटता या विवाह का सोचना ठीक नहीं ,”उसके घरवाले...