Category : मुक्तक/दोहा

  • मुक्तक

    मुक्तक

    मेरा पहला मुक्तक भाजपा के महानायक आदरणीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के सम्मान में सादर समर्पित [1] हे राजनीति के युग पुरुष , तेरा लख-लख अभिनंदन तेरी अमोघ गौरव गाथा का , कण-कण करता वंदन...


  • कुछ मुक्तक

    कुछ मुक्तक

    (1) जीवन की आड़ी तिरछी राहों पर आगे बढ़ता चल बाधा से घबराना कैसा सोच समझ पग धरता चल जन काँटों को चुन एक तरफ कर समतल कर दे राहों को दुःखी हृदय में प्रेम जगा...

  • मुक्तक

    मुक्तक

    प्रियतम तेरी याद है आई बहुत दिनों के बाद मुझको सारी रात जगाई बहुत दिनों के बाद सर्द हवा आई मेरे दिल को छूकर चली गई लगा तेरा स्पर्श कराई बहुत दिनों के बाद


  • दो मुक्तक

    दो मुक्तक

    आ मेरी ग़ज़ल तुझे प्यार दूं नया साज दूं नया राग दूं तुम बंसी मेरी बन जाओ अपने स्वर तुम पर साध दूं दिल ये मेरा अब तुम्हारा हो गया जब से कश्चित इशारा हो गया...

  • मुक्तक : कृषक

    मुक्तक : कृषक

    हे कृषक तेरा पसीना लहू बनकर झूमता है, शक्ति , शौर्य, प्रेम से हर जिगर को चूमता है रात -दिन जो एक करता अन्नदाता है व्यथित तंगहाली जिंदगी में मौत से नित जूझता है — राजकिशोर...

  • मुक्तक

    मुक्तक

    रुठती वो रहीं मैं मनाता रहा दर्द के गीत मैं गुनगुनाता रहा मुस्कुराती रहीं वो बड़े दर्प से मैं तड़पता रहा छटपटाता रहा — अरुण निषाद

  • मुक्तक : नहीं देखा

    मुक्तक : नहीं देखा

      दिल में समाकर जिसने, गुलिस्ताँ  नहीं देखा हमसफ़र बन साथ चलते, बागवाँ नहीं देखा मंज़िलें देखी बहुत ,प्यार पर एतवार नहीं कब राह चलते मिल गये, आसमाँ नहीं देखा — राजकिशोर मिश्र [राज] १२/०५/२०१५ प्रस्तुत...