Category : हाइकु/सेदोका


  • कुछ हाइकु

    कुछ हाइकु

    कुछ हाइकु 01 – पाक हंसता अपनों की वृद्धि से पराये घर। 02- आजादी पर्व जुड़कर जन्मते हमको गर्व। 03- तिगड़मबाज शत्रु को रिझाते कल या आज। 04 – भारत देश कुछ से है अजूबा गीदड़ी...

  • हाईकू

    हाईकू

    प्रीत मिलन मधुरमय बेला करे पुकार! नई उमंग मन मे है तरंग हुई मगन ! सुनी डगर निहारते सनम मिले कदम! लोग बेगाने बने इस तरह मिले सबक! अजनबी ये मन करता दुआ शुक्रिया तेरा? बिजया...


  • हाइकू

    हाइकू

    सूखी पत्तियाँ पेड़ पर लटकी शायद भूखी पेड़ विशाल पर खड़ा उदास खींचता बाल घास नुकीली खड़ी दीवार पर हवा सुरीली चेहरा लाल लगा हुआ गुलाल लगे कमाल

  • हाइकू

    हाइकू

    छोटा शहर भीड़ तनातन है लगता ड़र पीड़ा गहरी दुख रहा है तन मन रो रहा जंगल घना सन्नाटा पसरा है चलना मना

  • हाइकु

    हाइकु

    ठंडी की ऋतु घर घर अलाव बुझती आग।।-1 गैस का चूल्हा न आग न अलाव ठिठुरे हाथ।।-2 नया जमाना सुलगता हीटर धुआँ अलाव।।-3 नोटा का कोटा असर दिखलाया मुरझा फूल।।-4 खिला गुलाब उलझा हुआ काँटा मूर्छित...

  • हाइकु- मकर संक्रान्ति

    हाइकु- मकर संक्रान्ति

    नया साल पहला त्योहार नई उमंग स्नान, दान खिचड़ी पकती एकता बनी देव जाग्रत उम्मीदों की पतंग करें नमन मौलिक हाइकु नूतन गर्ग (दिल्ली)

  • हाइकु

    हाइकु

    ठंडी की ऋतु घर घर अलाव बुझती आग।।-1 गैस का चूल्हा न आग न अलाव ठिठुरे हाथ।।-2 नया जमाना सुलगता हीटर धुआँ अलाव।।-3 नोटा का कोटा असर दिखलाया मुरझा फूल।।-4 खिला गुलाब उलझा हुआ काँटा मूर्छित...