Category : भजन/भावगीत


  • खुदा बनके आ

    खुदा बनके आ

    खुदा बनके आ गॉड बनके तू आ आके प्रभु तू दरस दिखा। कहां है तू विधाता मेरे मन से मेरे सारे पर्दे हटा खुदा बनके आ गॉड बनके तू आ आके हृदय में समा जा आजा...

  • हे मां मुझे आशीष दो

    हे मां मुझे आशीष दो

    हे ज्ञानदायिनी माता देती रहना आशीष सदा। हे मां तेरे चरणों में ही झुकता रहे यह शीश सदा, मैं छोड़ सकू सभी अवगुण दे दो मां ऐसी शक्ति, ऐसा मुझको वर दे दो मां तेरा सदैव...

  • सरस्वती वंदना

    सरस्वती वंदना

    वीणावादिनी ज्ञान दायिनी ज्ञानवान कर दे…. माँ रूपसौभग्यदायिनी नव रुप भर दे…. जीवन में नव रस नव गीत नव स्वर भर दे… हंसवाहिनी श्वेतांबरी जग उज्ज्वल कर दे….. वीणापाणिनि शब्ददायिनी शब्दों से भर दे…. ज्योतिर्मय जीवन...

  • सदाबहार काव्यालय-39

    सदाबहार काव्यालय-39

    भाव गीत   संबंध सुहाना है   है प्रेम से जग प्यारा, सुंदर है सुहाना है जिस ओर नज़र जाए, बस प्रेम-तराना है-   बादल का सागर से, सागर का धरती से धरती का अंबर से,...

  • ईश-वंदना

    ईश-वंदना

    हम हैं बालक भोले-भाले, प्रभु तुम हो जग के रखवाले, हमको सच्ची राह दिखा दो, प्रेम से रहना हमें सिखा दो. सच और झूठ का ज्ञान कराकर, राह हमारी रोशन कर दो, सेवा, सहयोग, सहानुभूति की,...

  • प्रभु की बगिया

    प्रभु की बगिया

    मुझे प्रभु तेरी बगिया में आना है तेरे फूलों से मन महकाना है-   1.इक फूल हो धीरज का दाता जो मिल जाए शीश धरूं दाता तेरी रज़ा में ही शुक्र मनाना है तेरे फूलों से...


  • देवी गीत

    1. अंबा माँ मोहनी मूरत तुम्हारी चक्र गदा त्रिशूल तलवार धारी अंबा माँ ……. 2. ममतामयी मनमोहनी मूरत करुणामयी बड़ी सोहिनी प्यारी अंबा माँ ……. 3. सुन्दर इतनी मुँह से बोले सत्य शिव सुन्दर मनोहारी अंबा...

  • मैया जी की आयी सवारी

    मैया जी की आयी सवारी

    ( आज से शारदीय नवरात्रोत्सव का प्रारम्भ हो रहा है । आज से जगतजननी मां दुर्गाजी के नौ विभिन्न स्वरूपों की नौ दिन तक पूजा अर्चना की जाती है । पेश है इसी सुअवसर पर गाया...